ब्रेकिंग न्यूज़
3-6_1638425817
कारोबार कृषि छत्तीसगढ़ प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़

धान खरीदी पर ‘जवाद’ तूफान का खतरा:4 दिसंबर को आंध्र-ओडिशा तट से टकराएगा चक्रवाती तूफान; छत्तीसगढ़ में भी आंधी-बारिश के आसार

रायपुर

छत्तीसगढ़ में मौसम की मार से जैसे-तैसे बचे धान पर ‘जवाद’ नाम का खतरा मंडरा रहा है। यह एक चक्रवाती तूफान है जो बंगाल की खाड़ी में उठा है। मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक यह तूफान चार दिसंबर को ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तट से टकराएगा। इसके प्रभाव से उन क्षेत्रों में भारी बारिश होगी। छत्तीसगढ़ में भी 3 से 6 दिसंबर के बीच तेज हवाओं और बारिश के आसार बन रहे हैं।

रायपुर मौसम विज्ञान केंद्र के विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया, प्रारंभिक सूचना के अनुसार मध्य अंडमान सागर और उसके आसपास एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। उसके साथ ही एक ऊपरी हवा का चक्रवाती घेरा भी 5.8 किलोमीटर की ऊंचाई पर बन रहा है। गुरुवार को प्रबल होकर यह पश्चिम-उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ते हुए अवदाब में बदल जाएगा। इसके पुनः प्रबल होकर एक चक्रवात के रूप में मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर अगले 24 घंटे में पहुंचने की संभावना बन रही है।

इसके उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर आगे बढ़ते हुए 4 दिसंबर की सुबह उत्तर आंध्र प्रदेश और उड़ीसा तट से टकराने की संभावना बन रही है। इसकी वजह से ओडिशा और आंध्र प्रदेश में भारी बारिश होगी। अनुमान है कि ओडिशा और आंध्र प्रदेश से लगे छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती जिलों में इसके प्रभाव से तेज हवाएं चलेंगी। कहीं-कहीं बारिश भी हो सकती है। मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि बारिश का अधिकतर क्षेत्र दक्षिण छत्तीसगढ़ ही रहेगा।

धान खरीदी केंद्रों पर जूट में अभी ऐसे ही रखा जा रहा है खरीदा हुआ धान।
धान खरीदी केंद्रों पर जूट में अभी ऐसे ही रखा जा रहा है खरीदा हुआ धान।

किसानों को बड़े नुकसान का अंदेशा
छत्तीसगढ़ में धान की कटाई अंतिम चरण में है। नवंबर में हुई बेमौसम बारिश से किसानों की खड़ी फसल को भी नुकसान हुआ था। काटकर और मिंजाई के बाद रखी फसल भी गीली हो गई थी। किसान अभी उस फसल को किसी तरह सुखाकर बचाने की कोशिश में लगे हैं। अगर दिसंबर में भी बारिश होती है तो फसल का अधिकांश हिस्सा बर्बाद हो सकता है।

खरीदी केंद्रों पर भी भीगेगा धान
प्रदेश में धान की सरकारी खरीदी एक दिसंबर से शुरू हुई है। इसके लिए 2 हजार 399 केंद्र बने हैं। सरकार ने पहले ही दिन 88 हजार मीट्रिक टन से अधिक धान खरीद लिया है। यह धान खरीदी केंद्रों पर खुले में पड़ा है। अगर तेज हवाओं के साथ बारिश हुई ताे यह धान भी भीगेगा। अगर ऐसा हुआ तो सरकार को भी भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है।

संबंधित पोस्ट

उत्तर प्रदेश सरकार ने डॉ. कफ़ील ख़ान को बर्ख़ास्त किया, ख़ान ने कहा- अदालत जाएंगे

Khabar 30 din

चीन की लैब से लीक हुआ कोरोना:दावा- पहला केस मिलने के एक महीने पहले वुहान की लैब के 3 रिसर्चर बीमार पड़े थे; तीनों में कोरोना के लक्षण देखे गए थे

Khabar 30 din

MP में कल से फिर बारिश:इंदौर, उज्जैन और ग्वालियर संभागों में अच्छा पानी गिरेगा; भोपाल में गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार

Khabar 30 din

एलोपैथी के खिलाफ बोलकर फंसे रामदेव:IMA ने दिल्ली और रायपुर में पुलिस कंप्लेन की; महामारी कानून, आपदा कानून और राजद्रोह के तहत FIR की मांग

Khabar 30 din

गृह मंत्रालय ने सीएए के तहत नियम बनाने के लिए और समय मांगा

Khabar 30 din

CG से UP जा रही ‘मदद’ रास्ते में अटकी:​​​​​​​अंबिकापुर के पास ऑक्सीजन टैंकर हुआ खराब, सुधरने में 5 घंटे लगे; लखनऊ के मेदांता अस्पताल के लिए प्रियंका गांधी ने मांगी है मदद

Khabar 30 Din
error: Content is protected !!