ब्रेकिंग न्यूज़
Online-Freedom-Trolls-Reuters
बड़ी खबर राजनीति

इंटरनेट बैन के लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली दलीलें क़ानून में परिभाषित नहीं: संसदीय समिति

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने संचार और सूचना प्रौद्योगिकी पर बनी संसदीय समिति को बताया कि केंद्र व राज्य सरकारें ‘सार्वजनिक सुरक्षा’ और ‘सार्वजनिक आपातकाल’ की दलील देकर इंटरनेट प्रतिबंधित करते हैं, लेकिन भारतीय टेलीग्राफ अधिनियम में ये शब्दावली परिभाषित नहीं है. समिति की रिपोर्ट के अनुसार, परिभाषा के अभाव के चलते प्रशासन आए दिन रोज़मर्रा के पुलिस एवं प्रशासनिक कामों के लिए भी इसका सहारा ले रहा है.

नई दिल्ली: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक संसदीय समिति को बताया है कि दूरसंचार और इंटरनेट सेवाओं को निलंबित करने के लिए अक्सर राज्य एवं केंद्र सरकार द्वारा दी जाने वाली सार्वजनिक सुरक्षा और सार्वजनिक आपातकाल की दलील भारतीय टेलीग्राफ अधिनियम की धारा 5(2) के तहत परिभाषित नहीं हैं.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, मंत्रालय ने कांग्रेस नेता शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संचार और सूचना प्रौद्योगिकी पर बनी संसद की स्थायी समिति को ये जानकारी दी है.

गृह मंत्रालय ने कहा कि इसलिए इंटरनेट बैन करने के लिए ‘सार्वजनिक सुरक्षा और आपातकाल’ पर निर्णय ‘उपयुक्त अथॉरिटी की राय’ के आधार पर लिया जाता है.

संसदीय समिति ने बीते बुधवार को लोकसभा में पेश किए अपने रिपोर्ट में कहा है कि इन दो शब्दावली की व्याख्या या इसे परिभाषित किए बिना ही केंद्र और राज्य सरकारें इनका हवाला देते हुए दूरसंचार और इंटरनेट सेवाओं पर पाबंदी लगाती आ रही है.

समिति ने कहा कि ‘सार्वजनिक सुरक्षा’ और ‘सार्वजनिक आपातकाल’ की स्थिति उत्पन्न होने की स्थिति में इंटरनेट पर जरूर प्रतिबंध लगाया जा सकता है, लेकिन इसकी परिभाषा के अभाव के कारण प्रशासन आए दिन रोजमर्रा के पुलिस एवं प्रशासनिक कार्यों के लिए भी इसका सहारा ले रही है.

उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि कई बार परीक्षाओं में नकल रोकने के नाम पर भी इंटरनेट बन कर दिया जा सकता है जिसका सार्वजनिक सुरक्षा या आपातकाल से कोई लेना-देना नहीं है.

यूके स्थित निजता और सुरक्षा अनुसंधान फर्म Top10VPN के एक शोध के अनुसार, भारत को 2020 में इंटरनेट बंद होने के कारण दुनिया में सबसे ज्यादा आर्थिक प्रभाव का सामना करना पड़ा है. इससे 8,927 घंटे और 2.8 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है.

जिन 21 देशों ने साल 2020 में किसी न किसी रूप में दूरसंचार या इंटरनेट पर पाबंदी लगाई थी, उसमें से भारत पर प्रभाव, बाकी के 20 देशों के संयुक्त नुकसान का दोगुना से भी अधिक है.

दूरसंचार सेवाओं संबंधी प्रतिबंध के प्रावधानों का दुरुपयोग रोकने के लिए समिति ने सुझाव दिया है कि सरकार इसके लिए उपयुक्त व्यवस्था तैयार करे, जो जल्द से जल्द दूरसंचार/इंटरनेट पाबंदी की जरूरत पर फैसला करेगी.

उन्होंने कहा कि सार्वजनिक आपातकाल और सार्वजनिक सुरक्षा जैसी शब्दावली को परिभाषित कर इसके मापदंडों को लागू किया जाए, ताकि इंटरनेट निलंबन नियमों को लागू करते समय इसके पीछे की दलीलों में अस्पष्टता को समाप्त किया जा सके.

समिति ने यह भी कहा केंद्रीय गृह मंत्रालय के साथ-साथ दूरसंचार विभाग (डीओटी) को भारत में सभी इंटरनेट शटडाउन के केंद्रीकृत डेटाबेस को बनाए रखने के लिए एक तंत्र स्थापित करना चाहिए. उक्त डेटाबेस में विवरण होना चाहिए जैसे कि किसी क्षेत्र में दूरसंचार या इंटरनेट सेवा को कितनी बार निलंबित किया गया था, कारण, अवधि और इस संबंध में सक्षम प्राधिकारी का निर्णय.

संबंधित पोस्ट

श्रम कानून में बड़े बदलाव की तैयारी में सरकार, अब आपको इतने घंटे करना होगा काम!

Khabar 30 Din

लखीमपुर हिंसा: सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से कहा- आप मामले में बहुत धीमा काम कर रहे हैं

Khabar 30 din

अवैध प्लाट कारोबारियों के हौसले बुलंद, सत्ताप्रभाव के धौंस से कर रहे जमींन की अफरा तफरी, बिना टाउन एन्ड कंट्री प्लानिंग के हजारों करोड़ की खेती वाली जमीन बेच दी गई?

Khabar 30 din

एक मई से बदलने जा रहे हैं गैस सिलेंडर की कीमत, बैंकिंग रूल्स समेत कई नियम, यहां जानें आप पर क्या होगा असर

Khabar 30 Din

16 क्षेत्रीय दलों ने बिना पैन विवरण के 24.779 करोड़ रुपये का चंदा प्राप्त किया: रिपोर्ट

Khabar 30 din

हाथरस: जिस वेबसाइट पर अंतरराष्ट्रीय साज़िश रचने का आरोप, उसमें कहा गया- न्यूयॉर्क पुलिस से बचें

Khabar 30 din
error: Content is protected !!