ब्रेकिंग न्यूज़
Global-Hunger-Index
देश विदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ सोशल मीडिया स्वास्थ्य

वैश्विक भूख सूचकांक भारत की वास्तविक स्थिति नहीं दर्शाता, यह भूख मापने का ग़लत पैमाना: सरकार

खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों की राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने राज्यसभा में बताया कि सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा क़ानून 2013 लागू किया है, जो जनसंख्या के 67 प्रतिशत हिस्से की भूख का निराकरण करता है. साल 2021 के वैश्विक भुखमरी सूचकांक में भारत पिछले साल के 94वें स्थान से फिसलकर 101वें पायदान पर पहुंच गया है.

नई दिल्ली: सरकार ने शुक्रवार को कहा कि वैश्विक भूख सूचकांक (जीएसआई) भारत की वास्तविक स्थिति नहीं चित्रित करता, क्योंकि यह भूख मापने का गलत पैमाना है.

खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों की राज्य मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने एक सवाल के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी.

उन्होंने कहा कि ‘कंसर्न वर्ल्डवाइड’ एवं ‘वेल्ट हंगरहिल्फ’ द्वारा प्रस्तुत वैश्विक भूख सूचकांक 2021 में भारत की रैकिंग 101 है. उन्होंने कहा कि नेपाल और बांग्लादेश की रैंक 76 और पाकिस्तान की रैंक 92 है.

उन्होंने कहा कि वैश्विक भूख सूचकांक रिपोर्ट के अनुसार भारत का समेकित सूचकांक साल 2000 में 38.8 था जो सुधर कर 2021 में 27.5 हो गया है. इस प्रकार पिछले कुछ वर्षों से देश में लगातार सुधार दिख रहा है.

उन्होंने कहा कि वैश्विक भूख सूचकांक की गणना चार संकेतकों- कुपोषण, बच्चों का बौनापन, बच्चों में अवरूद्ध विकास और शिशु मृत्यु दर के आधार पर की जाती है.

मंत्री ने कहा कि वैश्विक भूख सूचकांक (जीएसआई) भारत की वास्तविक स्थिति नहीं चित्रित करता, क्योंकि यह भूख मापने का गलत पैमाना है.

उन्होंने कहा कि केवल एक संकेतक यानी बच्चों में कुपोषण ही भुखमरी से सीधे संबंधित है. उन्होंने कहा कि शायद ही ऐसे कोई साक्ष्य हैं, जिससे यह पता चलता हो कि चौथा संकेतक यानी शिशु मृत्यु दर भुखमरी का नतीजा है.

निरंजन ज्योति ने जोर दिया कि सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून 2013 लागू किया है, जो ग्रामीण आबादी में 75 प्रतिशत तक और शहरी आबादी में 50 प्रतिशत तक कवरेज प्रदान करता है और इस प्रकार जनसंख्या का 67 प्रतिशत हिस्से की भूख का निराकरण करता है.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत खाद्य सुरक्षा कानून के दायरे में आने वाले लाभार्थियों को प्रति व्यक्ति प्रति माह अतिरिक्त पांच किलोग्राम खाद्यान्न नि:शुल्क दिया जाता है और इस योजना को चार महीने यानी दिसंबर 2021 से मार्च 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है.

मालूम हो कि बीते 14 अक्टूबर को जारी साल 2021 के वैश्विक भुखमरी सूचकांक में भारत पिछले साल के 94वें स्थान से फिसलकर 101वें पायदान पर पहुंच गया है. इस मामले में वह अपने पड़ोसी देश पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से पीछे है.

हालांकि, भारत सरकार ने वैश्विक भूख सूचकांक रैंकिंग के लिए इस्तेमाल की गई पद्धति को ‘अवैज्ञानिक’ बताया था. सरकार ने कहा था कि इस रिपोर्ट की प्रकाशन एजेंसियों, ‘कंसर्न वर्ल्डवाइड’ एवं ‘वेल्ट हंगरहिल्फ’ ने रिपोर्ट जारी करने से पहले उचित मेहनत नहीं की है.

संबंधित पोस्ट

रायपुर : छत्तीसगढ़ के जंगलों में नरवा विकास : वर्ष 2021-22 में कैम्पा मद से 392 करोड़ रूपए की राशि स्वीकृत

Khabar 30 din

छत्तीसगढ़ में विपक्षी नेताओं और पत्रकारों पर फर्जी एफआईआर की भरमार-क्राइम रिपोर्ट

Khabar 30 Din

सेंट्रल विस्टा एवेन्यू के पुनर्विकास पर अब तक 418.70 करोड़ रुपये ख़र्च: सरकार

Khabar 30 din

जूडा प्रदेशाध्यक्ष बोले- टकराव खत्म करिए, बातचीत को तैयार; मंत्री सारंग ने कहा- 3 साल का स्टायपेंड एक साथ बढ़ा देंगे, कोर्ट के सम्मान में लौटिए

Khabar 30 din

अमेरिका:पूर्व राष्ट्रपति ओबामा बोले- ट्रम्प ने खुद सावधानी नहीं बरती, वो अमेरिका के लोगों की हिफाजत कैसे करेंगे

Khabar 30 Din

असम: पुलिस पेपर लीक के आरोपी दीबान डेका ने किया आत्मसमर्पण, भाजपा ने पार्टी से निष्कासित किया

Khabar 30 din
error: Content is protected !!