ब्रेकिंग न्यूज़
1_1638697547
कारोबार कृषि छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ के गांवों का विकास बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

बैलो के स्थान पर बेटियों को खेत जोतने की खबर का असर-सीएम (छ0ग0) ने त तत्काल दिए 4 लाख रूपए

रायपुर

अपना पुश्तैनी खेत बचाने के लिए बैल की जगह हल में खुद जुत जाने वाली कोंडागांव की बेटियों हेमवती और लखमी की जीवटता को सरकार का साथ मिल गया है। दैनिक भास्कर में प्रकाशित रिपोर्ट पढ़ने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने खुद मदद का हाथ बढ़ाया है। आज मुख्यमंत्री ने इस परिवार के लिए चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता को मंजूरी दी।

शनिवार को कोंडागांव जिले के उमरगांव के एक किसान परिवार की इन बेटियों की कहानी प्रकाशित की थी। 22 साल की हेमवती और 18 साल की लखमी के पिता अमल साय एक गरीब किसान हैं। मां भी ज्यादा पढ़ी-लिखी नहीं हैं। गरीबी की वजह से अमल साय अपनी बेटियों को पढ़ा नहीं पाए। परिवार के भरण-पोषण के लिए जब खेत बेचने की नौबत आ गई, तब बेटियों ने अपने पिता को रोकते हुए कहा आप हमारी जिंदगी बदलने के लिए खेत बेचना चाहते हैं, लेकिन इसकी जरूरत नहीं पड़ेगी। यही खेत हमारी जिंदगी बदलेंगे। हम आपका साथ देंगी। बेटियों का भरोसा मिलने पर अमल साय ने खेत बेचने का इरादा छोड़ दिया। बेटियों ने खुद ही हल खींचकर धीरे-धीरे अपनी पांच एकड़ जमीन पर फसल उगाई। अब इस परिवार की खेती संभलने लगी है। रिपोर्ट पढ़ने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोंडागांव कलेक्टर से इस परिवार की जानकारी मंगाई। रिपोर्ट मिलने के बाद इस परिवार के लिए 4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मंजूर कर दी गई।

सरकारी केंद्रों पर फसल बिकने का भी फायदा

कलेक्टर की रिपोर्ट में सामने आया है कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना ने भी परिवार को संबल दिया। उन्हें अब उपज की अच्छी कीमत मिलने लगी है। यह परिवार कम संसाधनों के बावजूद पांच एकड़ में खेती करता है। इसके लिए दोनों बेटियों को अपने बुजुर्ग माता-पिता के साथ अब भी कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

संबंधित पोस्ट

BJP के बहुमत के बाद भी फिसली उपाध्यक्ष की कुर्सी; कांग्रेस की सुनीता चेन्नेवार चुनी गईं उपाध्यक्ष

Khabar 30 din

Corona Challenge: यहां कोरोना पाॅजिटिव होने पर मिलेंगे 4 लाख रुपए, जानिए डिटेल

Khabar 30 din

कम ऑक्सीजन की आपूर्ति को लेकर केंद्र पर अवमानना कार्यवाही क्यों नहीं की जाए: हाईकोर्ट

Khabar 30 din

शोपियां फ़र्ज़ी मुठभेड़: राजौरी के तीन युवकों के शव कब्र से निकालकर परिवार को सौंपे गए

Khabar 30 din

इंदौर के जू में ही तेंदुआ:ZOO और बुरहानपुर वन विभाग की 20 लोगों की टीम कर रही रेस्क्यू, जाल और पिंजरा लेकर पहुंचे

Khabar 30 din

विज्ञापन के ज़रिये पांच सालों में सोशल मीडिया पर सिर्फ़ एक जागरूकता अभियान चलाया: सरकार

Khabar 30 din
error: Content is protected !!