ब्रेकिंग न्यूज़
download (3)
ब्रेकिंग न्यूज़ मध्यप्रदेश लोकल ख़बरें सोशल मीडिया

MP के स्कूल में एडमिशन के नियम बदले:पहली से 8वीं क्लास के लिए अब पहले TC देना जरूरी नहीं; बाद में जमा करना होगा

मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग ने एक से दूसरे स्कूल में एडमिशन के नियम बदले हैं। पहली से 8वीं क्लास के लिए एडमिशन के समय TC (ट्रांसफर सर्टिफिकेट) जमा करने की अनिवार्यता खत्म कर दी गई है। स्टूडेंट्स को दूसरे स्कूल में एडमिशन लेने के बाद सेशन खत्म होने से पहले ट्रांसफर सर्टिफिकेट जमा करना होगा। संचालक लोक शिक्षण केके द्विवेदी ने नए आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश में कहा गया है कि पहली से 8वीं क्लास में एडमिशन RTE (राइट टू एजुकेशन) नियम के तहत ही होंगे।

9वीं-12वीं में पहले की तरह नियम
9वीं से लेकर 12वीं तक की क्लास में एडमिशन के लिए पहले की तरह ही नियम रहेंगे। इसमें किसी तरह का परिवर्तन नहीं किया गया है। अब तक कई स्कूलों ने 9वीं से लेकर 12वीं तक की क्लास के बच्चों की तिमाही परीक्षा के ऑनलाइन अंक नहीं भरे हैं। विभाग ने स्कूलों को तिमाही और छह माही परीक्षा के अंकों को 15 जनवरी तक हर हाल में भरने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए सभी स्कूलों को उनके आईडी पासवर्ड भी दे दिए हैं।

स्कूल खोले रखने पर सरकार का वेट एंड वॉच
मध्यप्रदेश में कोरोना पीक पर पहुंच रहा है। संक्रमण की तीसरी लहर में बच्चे ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं। भोपाल में 10 दिन में 136 तो 11 अन्य शहरों में 78 बच्चे संक्रमित हो चुके हैं। बड़ी कक्षाओं में 50% बच्चे अभी भी स्कूल जा रहे हैं। सोमवार को कोरोना समीक्षा बैठक के दौरान स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने पहली से 8वीं तक के स्कूल बंद करने का मामला उठाया तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अभी ये चिंता का विषय नहीं है। इस बारे में तीन-चार दिन बाद फैसला लेंगे। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा भी स्थिति गंभीर होने पर ही कोई फैसला लेने की बात कर चुके हैं।

भास्कर सर्वे: पेरेंट्स का मानना- ऑनलाइन होना चाहिए क्लास
पेरेंट्स का मानना है कि क्लासेस ऑनलाइन ही लगनी चाहिए। बच्चों को खतरे में डालना गलत है। पेरेंट्स की मन की बात दैनिक भास्कर के सर्वे में सामने आई। भास्कर ने पोल कराया और 4 ऑप्शन दिए-

  • पहला- सभी कक्षाएं ऑनलाइन हों, बच्चों को खतरे में न डालें। 71% पेरेंट्स ऑनलाइन क्लास के पक्ष में हैं। उनका मानना है कि बढ़ते संक्रमण के बीच बच्चों को खतरे में नहीं डालना नहीं चाहिए।
  • दूसरा- स्कूलों के दबाव में ऑनलाइन क्लास का फैसला नहीं हो रहा। 7% लोगों का यही मानना है।
  • तीसरा- पेरेंट्स बच्चों को स्कूल न भेजें, घर में पढ़ाएं। 7% पेरेंट्स यही चाहते हैं।
  • चौथा ऑप्शन- 9वीं-12वीं क्लास छोड़कर सभी ऑनलाइन करना चाहिए। 15% ने 10-12वीं को छोड़कर सभी कक्षाएं ऑनलाइन करने की बात कही है।

संबंधित पोस्ट

राष्ट्रपति कोविंद ने PM की सुरक्षा चूक पर चिंता जाहिर की; राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे PM

Khabar 30 din

त्रिपुरा में विहिप की रैली के दौरान मस्जिद में तोड़फोड़, दुकानों में आगज़नी

Khabar 30 din

MP में आज भी झमाझम!:ताऊ ते तूफान का असर- नॉर्थ एमपी में भारी बारिश की संभावना, भोपाल समेत अन्य हिस्सों में हल्की या बूंदाबांदी के आसार

Khabar 30 din

कोविड-19: बीते चौबीस घंटों में देश में संक्रमण के 8,635 नए मामले सामने आए

Khabar 30 din

मरवाही उपचुनाव:मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा- पहली बार फर्जी नहीं, असली आदिवासियों की लड़ाई, उनको मिलेगा हक

Khabar 30 Din

अंत्योदय दिवस के उपलक्ष्य पर बिजुरी नगर में विभिन्न कार्यक्रमों का हुआ आयोजन

Khabar 30 Din
error: Content is protected !!