ब्रेकिंग न्यूज़
thkaan ka ilaaj
COVID 19 खबरे जरा हटके टेक्नोलॉजी देश विदेश प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ स्वास्थ्य

कोविड के बाद की थकान सामान्य आलस से कहीं अधिक है, इससे निपटने के लिए क्या करें

खबर 30 दिन

  • लोग अक्सर इस बात से हैरान होते हैं कि कोविड संक्रमण के दौरान वह कितने थके हुए हैं।

यह थकान सिर्फ अलसाने या नींद आने से कहीं अधिक है। यह अत्यधिक थकान है जो आराम करने या अच्छी नींद लेने के बावजूद बनी रहती है। यह वायरस के प्रति हमारे शरीर की मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का परिणाम हो सकता है।

लेकिन कुछ लोगों में संक्रमण दूर होने पर भी थकान बनी रहती है। इस दौरान वह कमजोरी और निराशा का अनुभव भी कर सकते हैं। इस दशा में अधिक आराम करने से कोई फर्क नहीं पड़ता।

यहाँ हम यह बता रहे हैं कि कोविड के बाद की थकावट क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है।

आलस या थकान? क्या फर्क है?

थकान शब्द का अर्थ अलग-अलग लोगों के लिए अलग-अलग हो सकता है। कुछ लोगों के लिए थकान का मतलब है कि उनकी मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं।

हलका फुलका चलने पर भी उन्हें ऐसा लगता है जैसे उन्होंने मैराथन दौड़ लगाई हो।

अन्य सामान्य रूप से थकावट की शिकायत करते हैं, चाहे वह चल रहे हों या नहीं। लोग शारीरिक, मानसिक या भावनात्मक थकान, या इनमें से किसी भी संयोजन का अनुभव कर सकते हैं।

आलस और थकान के बीच का अंतर यह है: पर्याप्त आराम से आलस की स्थिति बेहतर हो सकती है, जबकि थकान बनी रहती है, भले ही कोई सो रहा हो और पहले से ज्यादा आराम कर रहा हो।

यह कितनी बड़ी समस्या है?

चूंकि कोविड के बाद की थकान की कोई सहमत परिभाषा नहीं है, कितने लोगों ने इसका अनुभव किया है, इसकी सटीक संख्या देना असंभव है। दुनिया भर में अनुमान काफी भिन्न हैं।

21 अध्ययनों की एक समीक्षा में पाया गया कि 13-33% लोग अपने लक्षण शुरू होने के 16-20 सप्ताह बाद तक थके हुए थे। यह एक चिंताजनक रूप से व्यापक समस्या है।

मुझे अपने डाक्टर के पास कब जाना चाहिए?

थकान के कई संभावित कारण हैं। महामारी से पहले भी, डाक्टर के पास जाने वालों में थकान सबसे आम कारणों में से एक थी।

थकान अपने आप में किसी चिंता की वजह नहीं है, जिन लक्षणों से विशेष रूप से चिंता होनी चाहिए उनमें बुखार, अकारण वजन घटना, असामान्य रक्तस्राव या चोट लगना, दर्द (कहीं भी) जो आपको नींद से जगा दे, या रात को पसीना आना शामिल है।

यदि आपकी थकान बेहतर होने के बजाय और बढ़ रही है, या आप अपनी देखभाल ठीक से नहीं कर सकते हैं, तो आपको वास्तव में चिकित्सा देखभाल लेनी चाहिए।

क्या यह लंबे कोविड की तरह है?

महामारी की शुरुआत में, हमने महसूस किया कि कुछ रोगियों में दुर्बल करने वाले लक्षणों का एक समूह था जो महीनों तक चला, जिसे अब हम लंबा कोविड कहते हैं।

लगभग 85% लंबे कोविड वाले रोगियों में थकान का अनुभव होता है, जो इसे सबसे आम लंबे कोविड लक्षणों में से एक बनाता है।

हालांकि, लंबे कोविड वाले लोगों में कई अन्य लक्षण भी होते हैं, जैसे ‘‘ब्रेन फॉग’’, सिरदर्द और मांसपेशियों में दर्द।

इसलिए लंबे समय तक कोविड वाले मरीज़ थकान से अधिक अनुभव करते हैं, और कभी-कभी उन्हें बिल्कुल भी थकान नहीं होती है।

क्या यह क्रोनिक थकान सिंड्रोम की तरह है?

हम क्रोनिक थकान सिंड्रोम के बारे में जानते थे, जिसे अन्यथा मायालजिक एन्सेफेलोमाइलाइटिस के रूप में जाना जाता है, जो कि कोविड से बहुत पहले की एक शारीरिक समस्या है।

यह अक्सर वायरल संक्रमण के बाद विकसित होता है (उदाहरण के लिए एपस्टीन-बार वायरस से संक्रमण के बाद)। तो, जाहिर है, क्रोनिक थकान सिंड्रोम को संभावित रूप से ट्रिगर करने में कोरोनवायरस का हाथ हो सकता है।

क्रोनिक थकान सिंड्रोम और लंबे कोविड के बीच उल्लेखनीय समानताएं हैं। दोनों में दुर्बल करने वाली थकान, ब्रेन फॉग और/या मांसपेशियों में दर्द शामिल है।

लेकिन इस स्तर पर, शोधकर्ता अभी भी कोविड के बाद की थकान, लंबे कोविड और क्रोनिक थकान सिंड्रोम के बीच किसी भी संबंध की गुत्थी को सुलझा रहे हैं।

अभी के लिए, हम जानते हैं कि बहुत से लोगों को कोविड के बाद की थकान होगी, लेकिन शुक्र है कि इससे लंबा कोविड या क्रोनिक थकान सिंड्रोम विकसित नहीं होता है।

सौजन्य-द कन्वरसेशन एकता

यह खबर ‘भाषा’ न्यूज़ एजेंसी से ‘ऑटो-फीड’ द्वारा ली गई है. इसके कंटेट के लिए खबर 30 दिन जिम्मेदार नहीं है.

संबंधित पोस्ट

अब घर बैठे पा सकेंगे बिना रजिस्‍टर्ड वाहनों पर ट्रेड सर्टिफिकेट, आरटीओ ऑफिस जाने की नहीं होगी जरुरत

Khabar 30 din

भिलाई में CM की पदयात्रा:15 मिनट थमा रहेगा रायपुर-नागपुर NH, कई रूट डायवर्ट

Khabar 30 din

यूक्रेन-रूस संघर्ष के पूरी तरह खिलाफ है भारत, हमने शांति का पक्ष चुना: जयशंकर

Khabar 30 din

भाजपा पर प्रहार:माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही, मिलावट के खिलाफ युद्ध छेड़ मैंने कोई पाप किया क्या, मेरा क्या यही गुनाह था, जो सौदेबाजी कर मेरी सरकार गिरा दी गई – कमलनाथ

Khabar 30 din

खनन माफिया और रेंजर के बीच 7 माह पूर्व का ऑडियो हुआ वायरल, मचा हड़कंप

Khabar 30 din

महाराष्ट्र में 2 करोड़ बैंक डकैती के सागर से जुड़े:डकैती में उपयोग कार का सागर में कलर बदलवा रहा था मास्टरमाइंड; जीजा की मदद से गिरफ्तार

Khabar 30 din
error: Content is protected !!