ब्रेकिंग न्यूज़
khandwa-2_1644060543
खबरे जरा हटके प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

रामनवमी पर एबीवीपी ने हैदराबाद विश्वविद्यालय में कथित तौर पर राम मंदिर का निर्माण किया

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा विश्वविद्यालय परिसर के भीतर चट्टानों से निर्मित एक ढांचे में भगवा झंडे के साथ राम और हनुमान की तस्वीरें लगाई गईं थीं, साथ ही कथित तौर पर अनुष्ठान भी किए गए थे. अन्य छात्र समूह इसे विश्वविद्यालय के भगवाकरण के प्रयास के तौर पर देख रहे हैं.

हैदराबाद विश्वविद्यालय में एबीवीपी के सदस्यों द्वारा बनाया गया राम मंदिर. (फोटो: स्पेशल अरेंजमेंट)

नई दिल्ली: रामनवमी (10 अप्रैल) के दिन हैदराबाद विश्वविद्यालय परिसर में एक पत्थर की संरचना के भीतर एक राम मंदिर का कथित तौर पर निर्माण किया गया था, जिससे छात्रों के बीच चिंता पैदा हो गई.

द न्यूज मिनट के मुताबिक, मंदिर का ढांचा कथित तौर पर आरएसएस की छात्र इकाई अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) द्वारा स्थापित किया गया था. परिसर के भीतर चट्टानों के निर्माण में भगवा झंडे के साथ राम और हनुमान की तस्वीरें लगाई गईं थीं और कथित तौर पर अनुष्ठान किए गए थे.

अन्य छात्र समूह इसे परिसर के भगवाकरण और हिंदू धार्मिक प्रथाओं व विश्वासों पर ध्यान केंद्रित करने के एक और प्रयास के तौर पर देख रहे हैं.

छात्र संघ के महासचिव और अम्बेडकर छात्र संघ (एएसए) के संयोजक गोपी स्वामी ने द न्यूज मिनट को बताया कि दक्षिणपंथी समूहों, विशेष तौर पर एबीवीपी, ने हाल के दिनों में इस तरह की कई कोशिशें की हैं.

उन्होंने कहा, ‘इस विशिष्ट घटना में, राम नवमी का जश्न मनाते हुए उन्होंने एक पत्थर की संरचना को राम मंदिर में तब्दील कर दिया है. वे नया दाखिला लेने वाले छात्रों को अपनी सांप्रदायिक कट्टरता से प्रभावित कर रहे हैं.’

जब विश्वविद्यालय प्रशासन से पूछा गया कि क्या परिसर में धार्मिक ढांचे के निर्माण की अनुमति दी गई थी, तो विश्वविद्यालय की प्रवक्ता प्रोफेसर कंचन मलिक ने कहा, ‘पता चला है कि रामनवमी के मौके पर अस्थायी तौर पर फोटो लगाई गई और अन्य इंतजाम किए गए थे. विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने संबंधित छात्रों को उन्हें हटाने के लिए कहा है.’

एबीवीपी ने रामनवमी पर परिसर के गुरुबख्श सिंह मैदान में एक पूजा का भी आयोजन किया था. कुछ छात्रों के अनुसार, विश्वविद्यालय के कुलपति बीजे राव भी इस पूजा में शामिल हुए थे.

बहरहाल, बता दें कि हैदराबाद विश्वविद्यालय ऐसा इकलौता विश्वविद्यालय नहीं है जहां रामनवमी पर एबीवीपी की गतिविधियों ने विवाद पैदा किया हो. दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में दक्षिणपंथी समूह के सदस्यों ने कथित तौर पर उस दिन मेस में मांसाहारी भोजन परोसे जाने से रोकने की कोशिश की. इसके बाद हिंसा हुई और कई छात्र घायल हो गए.

परिसर के वामपंथी समूहों ने एबीवीपी पर विश्वविद्यालय का भगवाकरण करने के उद्देश्य के चलते जेएनयू में शांति भंग करने का आरोप लगाया है.

संबंधित पोस्ट

मध्य प्रदेश में गरीबों का गृह प्रवेशम्:ग्वालियर के नरेंद्र नामदेव ने तीन तलाक और आर्टिकल-370 हटाने की तारीफ की तो मोदी बोले- चुनाव लड़ना चाहते हैं क्या?

Khabar 30 din

16 क्षेत्रीय दलों ने बिना पैन विवरण के 24.779 करोड़ रुपये का चंदा प्राप्त किया: रिपोर्ट

Khabar 30 din

ओमिक्रॉन से संक्रमित दो मरीजों के संपर्क में आए 5 अन्य लोग भी कोरोना पॉजिटिव, देश में ‘दहशत’ का माहौल

Khabar 30 din

नेपाल पर कब्‍जे की तैयार में चीन

Khabar 30 din

ब्रिटेन में कोरोना के नए रूप ने मचाया कहर, कई देशों ने उड़ाने की बंद, भारत ने भी बुलाई बैठक

Khabar 30 din

CG के 26 जिलों में बढ़ा लॉकडाउन:सुकमा और बीजापुर में 1 जून तो कवर्धा, दंतेवाड़ा, महासमुंद में 31 मई तक सब बंद; दुकानें खुलेंगी, लेकिन पान-सिगरेट, चाट-समोसा रहेगा बैन

Khabar 30 din
error: Content is protected !!