ब्रेकिंग न्यूज़
aa_1651395438
उत्तरप्रदेश क्राईम ब्रेकिंग न्यूज़

पुलिस की नाकामी से हारी पीड़ित मां:DM के पैरों में गिरी मां ने लगाई बेटी को ढूंढने की गुहार, डीएम ने कहा थाने जाइए मैं कुछ नहीं कर सकती

कानपुर
  • पीड़ित मां अपनी बेटी के लिए डीएम नेहा शर्मा के पैरों में गिरी कर गुहार लगाती

माफिया और अपराधियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई के साथ ही उत्तर प्रदेश पुलिस पर योगी आदित्यनाथ ने महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों पर खास फोकस रखने के लिए कहा था लेकिन कानपुर पुलिस शायद यह सब बातें भूल गई। ताजा मामला चकेरी थाना क्षेत्र का है, जहां पिछले 12 दिनों से एक पीड़ित मां अपनी बेटी को ढूंढ़ने की गुहार लगा कर जब हार गई तब वो रविवार को डीएम नेहा शर्मा की शरण में पहुंची। दरअसल रविवार को यूपी विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना के घर पर केंद्रीय मंत्री और शहर प्रशासन की बैठक चल रही थी तभी वहां पीड़ित महिला न्याय की गुहार लगाने के लिए पहुंच गई। उस महिला का दर्द सुनने के लिए कोई और तो बाहर नहीं आया लेकिन शहर की डीएम नेहा शर्मा जरूर उसकी आपबीती सुनने आई।

क्या है पूरा मामला…
देवीगंज इलाके की रहने वाली एक संतोषी देवी(बदला हुआ नाम) ने बताया, मेरी 19 वर्षीय बेटी पटेल नगर में काम करती है, बीती 19 अप्रैल को वो अचानक गायब हो गई। मैंने उसको बहुत ढूंढा लेकिन वो नहीं मिली। जिस रस्ते से वो अपने काम पर जाती थी उसी रस्ते में एक दुकान पड़ती थी, उस दूकान में काम करने वाला एक लड़का उसे आए दिन परेशान करता रहता था। मुझे आसपास के लोगों से जानकारी करने पर यह की 19 तारीख को उस लड़के ने मेरी बेटी को बहला फुसलाकर अपने साथ भगा ले गया है। इस घटना की रिपोर्ट मैंने 19 तारीख को ही लिखवा दी थी, लेकिन तब से लेकर आज तक पुलिस ने हमारी कोई मदद नहीं की है। महिला ने बताया, पिछले 12 दिनों में मैंने चकेरी थाने के बहुत चक्कर लगाए लेकिन मेरी एक न सुनी गई।

पैरों पर गिरने के बाद भी डीएम ने नहीं दिया कोई आश्वासन…
महिला ने आगे बताया, आज सुबह मुझे पता चला कि महाना जी के यहां शहर के सब अधिकारी आ रहे है तो मैंने इन्ही लोगों से अपनी बेटी के लिए न्याय मांगने की सोची, लेकिन यहां भी मेरी बात को सुनने वाला कोई नहीं था। डीएम साहिबा जब बाहर आई तब मैंने उनके पैरों पर गिरकर अपनी बेटी को ढूंढ़ने की मांग की। लेकिन डीएम साहिबा ने भी मुझे थाने जाने के लिए कह दिया। एक महिला और मां होने के नाते भी डीएम साहिबा ने मेरा दर्द नहीं समझा और मुझे थाने जाने के लिए कह दिया। योगी सरकार को क्या मैंने इसलिए वोट दिया था, यह कैसे अधिकारीयों के हाथों में शहर को छोड़ दिया है जहां एक आम आदमी की कोई सुनवाई नहीं की जा रही है।

चकेरी पुलिस का क्या कहना है…
चकेरी पुलिस के इंस्पेक्टर मधुर मिश्रा से जब इस मामले में बात की तो उन्होंने बताया, यह मामला प्रेम प्रसंग का है, लड़की अपनी मर्जी से लड़के के साथ गई है। हम लोग जांच कर रहे है।

संबंधित पोस्ट

सरगुजा में खनन के लिये कलेक्टर ने ग्राम सभा की सहमति का प्रमाणपत्र लगाया है, अब सरपंचों ने कहा- ऐसी कोई ग्रामसभा कभी हुई ही नहीं

Khabar 30 din

तब्लीगी जमात की मीडिया रिपोर्टिंग्स पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हाल में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार का सबसे अधिक दुरुपयोग हुआ

Khabar 30 din

नासा के टेलीस्कोप ने कम्प्यूटर में गड़बड़ी के बाद यूनिवर्स की फोटो लेना बंद किया; 30 साल से अतंरिक्ष में कर रहा निगरानी

Khabar 30 din

KLO संगठन ने असम में शांति प्रस्ताव को राज्य सरकार के सामने किया पेश

Khabar 30 din

छठ का भाजपाईकरण एक और पवित्र अवसर को विकृत करने का प्रयास है

Khabar 30 din

अफगानिस्तान में तालिबान का खतरा बढ़ा:50 इंडियन डिप्लोमेट्स और कर्मचारियों ने कंधार का दूतावास छोड़ा, आतंकी संगठन के प्रवक्ता का दावा- देश के 85% हिस्से पर कब्जा किया

Khabar 30 din
error: Content is protected !!