ब्रेकिंग न्यूज़
6_1644046744
क्राईम प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़

सूरत की अदालत ने ग्रीष्मा वेकारिया हत्या मामले में दोषी को सुनाई मौत की सजा

सूरत: सूरत की एक अदालत ने इस साल फरवरी में कॉलेज की 21 वर्षीय छात्रा ग्रीष्मा वेकारिया की हत्या के मामले में आरोपी फेनिल गोयानी को मौत की सजा सुनाई और इसे दुर्लभतम मामला करार दिया.

दिल्ली के निर्भया मामले का हवाला देते हुए सूरत के प्रधान सत्र एवं जिला न्यायाधीश वी. के. व्यास ने कहा कि महिलाओं के खिलाफ इस तरह के अपराधों में शामिल होने से लोगों को रोकने के लिए सख्त सजा दिये जाने की जरूरत है.

वेकारिया के माता-पिता और गुजरात के गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने अदालत के फैसले का स्वागत किया. यह फैसला घटना के ठीक 70 दिन बाद सुनाया गया है.

पुलिस ने घटना के एक सप्ताह के भीतर 2,500 पृष्ठ का आरोप पत्र दायर किया था और फिर 120 दस्तावेजी साक्ष्य भी जमा किए थे.

10_1651325672

कई प्रत्यक्षदर्शियों ने इस पूरी घटना को अपने स्मार्टफोन में कैद कर लिया था. 25 लोगों के वीडियो क्लिप और चश्मदीद गवाह अभियोजन पक्ष के लिए महत्वपूर्ण साबित हुए.

गोयानी ने 12 फरवरी को गुजरात के सूरत शहर के कामरेज की रहने वाली वेकारिया की उसके परिवार के सदस्यों और पड़ोसियों के सामने गला रेत कर हत्या कर दी थी.

वेकारिया ने गोयानी साथ संबंध बनाने से इनकार दिया था, जिसके बाद से वह आवेश में था. गोयानी ने वेकारिया को बचाने की कोशिश करते उसके भाई और चाचा को भी चाकू मार दिया था. इसके बाद उसने खुद को भी चाकू मारकर घायल कर लिया था. पुलिस पहले गोयानी को कामरेज में एक अस्पताल ले गई थी और 16 फरवरी को उसे गिरफ्तार कर लिया गया था.

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर घटना का एक वीडियो क्लिप वायरल होने के बाद भारी हंगामा हुआ था.

न्यायाधीश व्यास ने बृहस्पतिवार को मामले को ‘दुर्लभ से भी दुर्लभ’ करार दिया और अभियोजन पक्ष की अपील के अनुसार गोयानी को मौत की सजा सुनाई.

अदालत ने पिछले महीने गोयानी को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) और 307 (हत्या का प्रयास) के तहत दोषी करार दिया था.

वेकारिया के माता-पिता और गुजरात के गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने अदालत के फैसले का स्वागत किया, जो घटना के ठीक 70 दिन बाद सुनाया गया है.

छात्रा के पिता नंदलाल वेकारिया ने कहा कि वह अदालत के फैसले से संतुष्ट हैं.

उन्होंने कहा, ‘समाज में एक मजबूत संदेश भेजने के लिए ऐसी सजा दिये जाने की जरूरत है. मैं मंत्री संघवी, पूर्व विधायक प्रफुल्ल पंसुरिया और कामरेज पुलिस का भी आभारी हूं कि उन्होंने मेरे परिवार का साथ देकर 70 दिन में न्याय सुनिश्चित किया.’

संबंधित पोस्ट

मध्यप्रदेश में कॉल ड्रॉप जैसी सेवाओं से परेशान 14208 ग्राहक हर दिन बदल रहे कंपनी

Khabar 30 din

एक के बाद एक 14 रॉकेट हमलों से दहला काबुल

Khabar 30 Din

महाराष्ट्र में अखबारी कागज में खाना देने पर पाबंदी:राज्य के FDA ने कहा- इसकी स्याही जहरीली होती है, कैंसर तक हो सकता है

Khabar 30 din

हाईकोर्ट ने पर्यावरण संरक्षण मंडल को निर्णय लेने दिया आदेश:डंकनी नदी को प्रदूषित करने का मामला; केंद्र सरकार की गाइडलाइन का भी पालन नहीं करने का आरोप

Khabar 30 din

आर्या राजेन्द्रन बनेगी देश की सबसे कम उम्र की मेयर, BJP के तेजस्वी सूर्या की काट के रूप में CPI बढ़ा रही है आगे SHARE THIS:

Khabar 30 din

उपचुनाव में हार के बाद मंथन:कमलनाथ लेंगे फीडबैक, उम्मीदवारों के साथ चुनाव प्रभारियों को भोपाल बुलाया; जिम्मेदारों पर गिर सकती है गाज

Khabar 30 din
error: Content is protected !!