ब्रेकिंग न्यूज़
32-150x150
उत्तरप्रदेश दिल्ली/एनसीआर प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

आगराः ताजमहल के 22 कमरों में नहीं है कोई रहस्य, जानें विवाद के बीच ASI ने अपनी वेबसाइट पर क्या कहा

आगराः इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक 2012 में ASI से रिटायर होने वाले केके मोहम्मद का कहना है कि उन्हें ताज के भीतर मौजूद कमरों की दीवारों पर कोई धार्मिक चिन्ह नहीं दिखा।

दुनिया के अजूबों में शामिल ताजमहल के विवाद के बीच ASI (भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण) का दावा है कि इसके नीचे बने 22 कमरों में कोई रहस्य नहीं है। मेंटीनेंस के लिए वो अक्सर इन कमरों को खोलकर साफ सफाई करते रहते हैं। उन्हें आज तक ऐसा कुछ नहीं दिखा, जिसे संदेह के दायरे में रखा जाए। ये टिप्पणी अहम है क्योंकि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इन कमरों को खोलने से जुड़ी एक याचिका को खारिज कर दिया है।

ASI के मुताबिक दिसंबर 2021, जनवरी और परवरी 2022 में इन कमरों के संरक्षण का कार्य किया गया था। इस पर तकरीबन 6 लाख रुपए का खर्च आया था। 2006-07 में भी इन तहखानों की मरम्मत की जा चुकी है। उनकी वेबसाइट पर ये सारी जानकारी लगातार अपडेट की जाती हैं। हाल में जो कमरे खोले गए उनकी तस्वीरें भी वेबसाइट पर हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक ताजमहल के हिंदू मंदिर होने का दावा बीते कई सालों से किया जा रहा है। लेकिन इसे सुप्रीम कोर्ट के साथ तमाम इतिहासकारों और पुरातत्वविदों ने सिरे से खारिज किया है। 2012 में ASI से बतौर रीजनल डायरेक्टर (नार्थ) रिटायर होने वाले केके मोहम्मद का कहना है कि उन्हें ताज के भीतर मौजूद कमरों की दीवारों पर कोई धार्मिक चिन्ह नहीं दिखा। ये हुमायूं और सफदरजंग के मकबरे जैसे ही हैं। 22 कमरों की दीवारें खाली हैं। उनका कहना है कि पहली बार ताज का जिक्र बादशाहनामा में हुआ। ये शाहजहां के समय का आधिकारिक विवरण है। जो नक्काशी यहां है वो ताजमहल के बनने से 50 साल पहले नहीं बनाई जा सकती थी।

रिपोर्ट के मुताबिक ताजमहल के बेसमेंट में एक लंबा गलियारा मौजूद है। दरवाजों से अलग करके ये 22 कमरे बन गए। इन कमरों को साप्ताहांत या फिर पाक्षिक में सफाई की जाती है। एक अधिकारी का कहना है कि ताज को देखने लाखों की तादाद में टूरिस्ट आते हैं। सुरक्षा के लिहाज से ही बेसमेंट को बंद किया गया है। इसमें कोई धार्मिक मसला नहीं है।

ध्यान रहे कि ताज के 22 कमरों को खोले जाने की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ ने बेंच बेहद तल्ख टिप्पणी कर याचिका को खारिज कर दिया। अदालत ने ने याचिकाकर्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि आप दरवाजे खोलने के लिए आदेश मांग रहे हैं। आप एक फैक्ट फाइंडिंग कमेटी की मांग कर रहे हैं। इस तरह आप कोर्ट का समय बर्बाद कर रहे हैं।

इस याचिका में मांग की गई थी कि सालों से बंद पड़े ताजमहल के 22 कमरों को खुलवाया जाए और ASI से उसकी जांच कराई जाए। कोर्ट ने सख्त लहजे में कहा कि याचिकाकर्ता अपनी याचिका तक ही सीमित रहें। कोर्ट ने कहा कि आप आज ताजमहल के कमरे देखने की मांग कर रहे हैं। कल को आप कहेंगे कि हमें जज के चेंबर में को भी देखने जाना है।

संबंधित पोस्ट

कोरोना देश में:पिछले 7 दिन से हर रोज एक हजार से ज्यादा मरीजों की मौत हो रही, इस दौरान 7463 लोगों ने जान गंवाई: देश में अब तक 42.77 लाख मामले

Khabar 30 din

बांग्लादेश की लेखिका तसलीमा नसरीन ने कहा, पति से मधुर संबंध नहीं तो तलाक ले लें नुसरत जहां

Khabar 30 din

शिक्षा:एमएड, बीएड विभागीय और एमएड सीधी भर्ती के अभ्यर्थियों की चयन सूची जारी; एडमिशन की अंतिम तिथि 1 अक्टूबर

Khabar 30 din

कांग्रेस को लेकर माकपा ने साफ़ की स्थिति, पश्चिम बंगाल में साथ तो केरल में ख़िलाफ़ लड़ेगी चुनाव

Khabar 30 Din

टूटी सड़क ने ली महिला की जान:पति के साथ लौट रही थी, बाइक उछलने से गिरी, ट्रेलर ने कुचला; गुस्साए लोगों का हंगामा

Khabar 30 din

भारत में बिगड़े हालात का दुनिया पर असर:दूसरी लहर ने कई देशों को कोरोना वैक्सीन की सप्लाई रोकी, अक्टूबर तक दोबारा निर्यात शुरू होने की संभावना नहीं

Khabar 30 din
error: Content is protected !!