ब्रेकिंग न्यूज़
IMG_20220807_180234
खबरे जरा हटके छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ के गांवों का विकास दिल्ली/एनसीआर देश विदेश प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ भ्रष्टाचार सोशल मीडिया

छत्तीसगढ़ के मरवाही वन मण्डल में नेचर कैम्प के निर्माण में करोड़ो रुपयों के घोटाले की आशंका, बिना प्राकलन और बिना अनुमति के ही बना दिया रिसोर्ट?

बीबीसी लाईव/खबर 30 दिन

मरवाही (छत्तीसगढ़) अब्दुल सलाम कादरी

पेश है एक रिपोर्ट-

पूर्व में हमने छत्तीसगढ़ के मरवाही वन मण्डल के द्वारा किये गए घोटाले का पर्दाफाश किया था। जिसका नाम था राजमेरगढ़ का घोटाला जिसमे उच्च स्तरीय कॉटेज का निर्माण किया जाना था पर उसमें इतने घोटाले हुए की विभाग के पास पैसे खत्म होने की वजह से कार्य रोकना पड़ गया था। फिर एनजीटी ने इस कार्य पर रोक लगा दिया जिससे आगे का निर्माण नही हो पाया। अभी वर्तमान में उसकी स्थिति क्या है यह हम नही बता सकते।

देखे वीडियो खबर….

वीडियो☝️ ……

इसी कड़ी में मरवाही वन मण्डल के मरवाही रेंज में नेचर कैम्प का निर्माण करवाया गया है जिसमे 17 करोड़ से 22 करोड़ खर्च होना बताया जा रहा है इसका निर्माण किस मद या योजना से किया गया है इसके बारे में विभाग को कोई जानकारी नही है। कुछ सूत्रों का कहना है कि यह पर्यटन मण्डल से बनाया गया है। यदि पर्यटन विभाग ने निर्माण कराया है तो इसकी देख रेख और बुकिंग वगैरह वन विभाग क्यो कर रहा है। यह जांच का विषय है। कुछ सूत्रों ने यह भी बताया कि वन विभाग के रेगुलर मद और कैम्पा फण्ड साथ ही वन प्रबंधन समिति के बजट से इसका निर्माण कराया गया है। हमने इस सम्बंध में आरटीआई के जरिये दस्तावेज की कॉपी मांगी है जिससे इसके निर्माण स्टीमेट इत्यादि की जानकारी प्राप्त हो सके।

IMG_20220807_165439
इस सम्बंध में हमने उच्चाधिकारियों से जानना चाहा पर उनके द्वारा इस मामले में कुछ भी बोलने से इंकार किया गया है। इनके द्वारा फोन भी रिसीव नही किया जाता है।

पब्लिक सर्वेन्ट होने के बावजूद ये लोग अपने आप को जनता का भगवान मानने लगते है।

बहरहाल हम बात कर रहे है 17 करोड़ से 22 करोड़ की लागत से बनाये गए इस नेचर कैम्प की जिसमे 5 कॉटेज है जिसकी एक दिन की बुकिंग 2 हजार रुपये है यानी कि आम आदमी की पहुच से दूर।

20220807_174425

इस नेचर कैम्प के निर्माण में ना कोई टेंडर निकाला गया ना ही इसमे लगने वाली सामग्री की खरीद की कोई नोटिस जारी की गई थी। यानी कि अपने चहेते ठेकेदार के मार्फ़त कार्य करवाया गया और सामग्रियों की सप्लाई भी अपने चहेते सप्लायरों के माध्यम से कराई गई है।

IMG_20220807_165039

नेचर कैम्प के निर्माण में किसी भी प्रकार कोई साइन बोर्ड किसी भी जगह नही लगाई गई है। जिससे इसके निर्माण में घोटाले की बू आ रही है।

यहां पहले 5 कॉटेज हाई लेबल के टैंट वाले बनाये गए थे, और अब उसको हटाकर पक्के कॉटेज का निर्माण करवा दिया गया है। इस कॉटेज में ऐसी बीसी डीसी सभी प्रकार की सुविधाएं मौजूद है।

जिनके मार्फ़त यह कार्य करवाया गया वह पहले मरवाही में रेंजर थे फिर प्रमोशन होने के बाद ये यहां पर उप वनमण्डल अधिकारी बन गए । जिनके कार्यकाल में इस महान कार्य को अंजाम दिया गया है।

IMG_20220807_165214

इस नेचर कैम्प का लुत्फ उठाने के लिए अधिकारियों सहित विधायको राजनेताओं स्थानीय नेताओं का आये दिन यहां पर जमघट लगा रहता है। जिसके कारण यह एक पिकनिक स्पॉट भी बनता नजर आ रहा है हालांकि पिकनिक के लिए यह जगह उतनी उपयोगी नही है बस यह सैर सपाटे घूमने फिरने के लिए उपयोगी है। यहां रहना हो तो एक दिन का किराया भी 2 हजार रुपये से शुरू होता है, यानी आम आदमी के बजट से दूर।

Screenshot_2022-08-07-16-50-59-29_948cd9899890cbd5c2798760b2b95377
सूत्रों की मॉने तो इस नेचर कैम्प का निर्माण बिना एनजीटी के अनुमति के ही किया गया है जो जांच का विषय है।

5 सालों में यहां पर कितनी राशि किस किस कार्य मे खर्च हुई इसकी जानकारी भी विभाग देना नही चाहता है। यह भी एक जांच का विषय है। इसका निर्माण छत्तीसगढ़ में भाजपा शाषन काल से शुरू हुआ और अब कांग्रेस राज में समाप्त होता नजर आ रहा है।

IMG_20220807_165253

एक विश्वसनीय सूत्र ने बताया कि यहां पर लगभग 1 डेढ़ करोड़ से 2 करोड़ की राशि ही खर्च हुई है बाकी राशि का बंदरबांट रेंजर एसडीओ और तत्कालीन डीएफओ कर चुके है।

छत्तीसगढ़ के मरवाही से एडिटर इन चीफ अब्दुल सलाम कादरी की खोजी रिपोर्ट।

संबंधित पोस्ट

कोविड-19: बीते चौबीस घंटों में देश में संक्रमण के 8,635 नए मामले सामने आए

Khabar 30 din

मॉल से छलांग लगाने का मामला:एसआई कुर्सी पर बैठकर बयान लेने लगीं तो चीखी साेनिया, बोली- कुर्सी पर पति शुभम बैठे हैं आप उनकी गोद में कैसे बैठ गई, वहां से उठो

Khabar 30 din

शिक्षकों के प्रमोशन पर हाईकोर्ट की रोक:राज्य सरकार से मांगा जवाब; जूनियर को 3 साल में प्रमोशन, सीनियर शिक्षक हो रहे प्रभावित

Khabar 30 din

खुले में नमाज के विरोध के बाद, अब क्रिसमस पर मचा बवाल; हिंदूवादी संगठनों ने लगाए जय श्री राम के नारे

Khabar 30 din

रायपुर : मुख्यमंत्री ने कुदरगढ़ राशन दुकान का किया औचक निरीक्षण

Khabar 30 din

रायपुर : प्रतापपुर को मुख्यमंत्री की एक और सौगात

Khabar 30 din
error: Content is protected !!