ब्रेकिंग न्यूज़
क्राईम ब्रेकिंग न्यूज़

रायपुर में बस हादसा:कोरोना ने काम छीना, फिर रोजगार मिला तो जिंदगी नहीं; जो बचे भी उनमें किसी के पैर कटकर अलग हुए, किसी के हाथ

रायपुर
कोरोना ने इन मजदूरों का काम छीन लिया था। महामारी से बचकर किसी तरह ये घर पहुंचे। पांच माह बाद रोजगार मिला। एक उम्मीद जगी, लेकिन इस हादसे ने सब बर्बाद कर दिया।
  • मंदिर हसौद में हुए हादसे ने कई परिवारों से उनकी उम्मीदें छीन ली
  • सूरत के कपड़ा कारोबारी ने बस भेजकर मजदूरों को काम पर बुलाया था

छत्तीसगढ़ के रायपुर में शनिवार तड़के ट्रक की टक्कर से बस सवार 8 लोगों की मौत हो गई। जबकि 65 से ज्यादा लोग घायल हैं। इनमें से 5 अभी जिंदगी से जूझ रहे हैं। हादसे के समय बस में 75 लोग सवार थे। कोरोना ने इन मजदूरों का काम छीन लिया था। महामारी से बचकर किसी तरह ये घर पहुंचे। पांच माह बाद रोजगार मिला। एक उम्मीद जगी, लेकिन इस हादसे ने सब बर्बाद कर दिया।

हादसे के समय बस में 75 लोग सवार थे।
हादसे के समय बस में 75 लोग सवार थे।

कोरोना के चलते सारे मजदूर घर लौट आए थे, फिर से काम पर बुलाया गया
ये सारे मजदूर ओडिशा के गुंजाम जिले के रहने वाले हैं। ये गुजरात के सूरत में कपड़ा व्यवसायी के यहां काम करते थे। कोरोना के चलते काम बंद हुआ तो किसी तरह वहां से अपने घर लौटे। पैदल चलकर अन्य संसाधनों से सफर तय किया। जब फिर कारोबार शुरू हुआ तो व्यापारी ने ही बस भेजकर इन्हें काम पर वापस बुलाया। लेकिन इस बार सफर पूरा नहीं हो सका।

टक्कर इतनी जोरदार थी कि बस में आगे बैठे एक मजदूर का शव ट्रक ड्राइवर के केबिन के ऊपर मिला है।
टक्कर इतनी जोरदार थी कि बस में आगे बैठे एक मजदूर का शव ट्रक ड्राइवर के केबिन के ऊपर मिला है।

टक्कर इतनी जोरदार थी कि एक मजदूर का शव ट्रक ड्राइवर के केबिन पर मिला
रायपुर के मेकाहारा अस्पताल में घायल पड़े मजदूरों को क्या और कैसे हुआ कुछ नहीं पता। कहते हैं, वो सब सो रहे थे। अचानक से तेज धमाका हुआ। इसके बाद वो बस में फंस गए। दर्द से कराह रहे थे। कहते हैं कि बस के अंदर ही फंस गए थे। किसी तरह पुलिस और लोगों ने उन्हें बाहर निकाला। बताते हैं कि टक्कर इतनी जोरदार थी कि बस में आगे बैठे एक मजदूर का शव ट्रक ड्राइवर के केबिन के ऊपर मिला।

मौके पर कई लोग सड़क पर पड़े थे। उसमें शव भी थे। कुछ मजदूर बस की खिड़की से निकलने की कोशिश कर रहे थे। एंबुलेंस से अस्पताल भेजा गया।
मौके पर कई लोग सड़क पर पड़े थे। उसमें शव भी थे। कुछ मजदूर बस की खिड़की से निकलने की कोशिश कर रहे थे। एंबुलेंस से अस्पताल भेजा गया।

ये भी पहचानना मुश्किल था कि कौन किसका पैर, सड़क पर पड़े थे लोग
टीआई सोनल ग्वाला बताते हैं कि वे मौके पर पहुंचे तो कई लोग सड़क पर पड़े थे। उसमें शव भी थे। कुछ मजदूर बस की खिड़की से निकलने की कोशिश कर रहे थे। उनको एंबुलेंस से अस्पताल भिजवाया। बस के अंदर की हालत काफी बुरी थी। लोगों के हाथ-पैट कट गए थे। यह पहचानना तक मुश्किल हो रहा था कि कौन सा पैर-हाथ, किसका है। अस्पताल में पिकअप से शवों को उतारा गया तो कुछ के पैर कपड़ों से निकल कर गिर गए।

संबंधित पोस्ट

दिल्ली: नगर निगमों में कोविड से हुई मौतों में आधी संख्या सफाई कर्मचारियों की

Khabar 30 din

भोपाल धीरे-धीरे ही खुलेगा:चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग बोले- कोरोना पॉजिटिव के घर के बाहर स्टीकर लगाएंगे; संक्रमितों की शिकायत 1075 पर देकर कोरोना चेन तोड़ें

Khabar 30 din

जनता कांग्रेस का भाजपा को समर्थन:अमित जोगी ने कहा- वैचारिक समझौता संभव नहीं, लेकिन पिता का अपमान करने वाली कांग्रेस को हराने के लिए जरूरी

Khabar 30 Din

जे. ई. साहब क़ी मनमानी का शिकार हो रहे आम नागरिक।

Khabar 30 Din

हाथरस गैंगरेपः पुलिस पर युवती का जबरन अंतिम संस्कार करने का आरोप, जांच के लिए एसआईटी गठित

Khabar 30 din

रुजो में पदस्थ लिपिक की खाना पूर्ति दिखी, अपने ही वरिष्ठ अधिकारी के यहां दिया दबिश

Khabar 30 Din