ब्रेकिंग न्यूज़
बॉलीवुड/हॉलीवुड ब्रेकिंग न्यूज़

बीएमसी का भेदभाव:अमिताभ बच्चन समेत 7 रसूखदारों के अवैध निर्माण को बिना कार्रवाई के कर दिया नियमित, मनीष मल्होत्रा को नोटिस भेज हफ्तेभर में मांगा जवाब

कंगना रनोट के मुंबई स्थित दफ्तर में सिर्फ एक दिन के नोटिस पर तोड़फोड़ की कार्रवाई को लेकर बीएमसी सुर्खियों में है। वहीं दूसरी तरफ उसने अमिताभ बच्चन समेत 7 रसूखदारों के अवैध निर्माण पर कार्रवाई को महीनों तक लटकाए रखने के बाद नियमित कर दिया था। जिसका खुलासा दक्षिण मनपा द्वारा आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली को भेजे एक पत्र के जरिए हुआ है। उधर मशहूर फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा को भी बीएमसी ने एक नोटिस भेजा है।

जानकारी के मुताबिक गोरेगांव पूर्व में 7 बंगले हैं। जिन्हें लेकर अमिताभ बच्चन, राजकुमार हिरानी, ओबेरॉय रियालिटी, पंकज बलानी, हरेश खंडेलवाल, संजय व्यास और हरेश जगतानी ऐसे 7 लोगों को मंजूर प्लान में पाई गई अनियमितता को पहले जैसा करने के लिए 7 दिसंबर 2016 में नोटिस भेजा गया था। लेकिन कानूनी प्रक्रिया मई 2017 तक चलती रही।

आवश्यक प्रक्रिया पूरी कर नियमित करवाया निर्माण

आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली को भेजे पत्र में दक्षिण मनपा वॉर्ड कार्यालय के पद निर्देशित अधिकारी और सहायक अभियंता ने बताया कि अमिताभ बच्चन और अन्य लोगों को अवैध निर्माण को लेकर MRTP 53(1) कानून के तहत नोटिस जारी दिया गया था। उसके बाद उन्होंने आवश्यक प्रक्रिया पूरी करते हुए अवैध निर्माण को नियमित करवा लिया।

जानबूझकर नहीं तोड़े अवैध निर्माण

आरटीआई के जरिए जानकारी हासिल करने वाले अनिल गलगली ने मुख्यमंत्री और मनपा आयुक्त को पत्र भेजकर एमआरटीपी कानून के तहत कारवाई करते हुए अवैध निर्माण को तोड़ने की मांग की थी लेकिन कुछ नहीं हुआ। जिसके बाद गलगली का आरोप है कि मनपा ने जानबूझकर MRTP प्रक्रिया को धीमी कर दिया और इन अवैध निर्माणों को नियमित कर दिया।

मनीष मल्होत्रा को दिया हफ्तेभर का वक्त

उधर मशहूर फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा को भी हाल ही में बीएमसी ने नोटिस भेजा है। उन्हें अपने घर में गैरकानूनी परिवर्तन करने को लेकर कारण बताओ नोटिस दिया गया है। बीएमसी का आरोप है कि मनीष मल्होत्रा ने अपने घर के फर्स्ट फ्लोर को बिना किसी सूचना दिए ऑफिस में तब्दील किया। बीएमसी ने यह नोटिस 7 सितंबर को जारी किया है और मनीष मल्होत्रा को जवाब देने के लिए 7 दिन का समय दिया है।

बीएमसी पर लगा भेदभाव का आरोप

बीएमसी ने कंगना और मनीष मल्होत्रा दोनों को अलग-अलग समयावधि के नोटिस जारी किए। जहां मनीष मल्होत्रा को 351(1) के तहत 7 दिनों की मोहलत दी गई है वहीं कंगना को 354 के तहत केवल 1 दिन की मोहलत दी गई थी। जिसके बाद बीएमसी पर पक्षपात करने का आरोप लग रहे हैं।

संबंधित पोस्ट

CM बघेल ने वैक्सीन की दूसरी डाेज लगवाकर कहा- टीके पर राजनीति कर रही है मोदी सरकार; वेस्टेज के केंद्रीय आंकड़ों को भी बताया भ्रामक

Khabar 30 din

भारत में कोविड-19 की तीसरी लहर कब आएगी? क्या यह भयावह होगी? जानिए इन 4 स्टडीज में क्या कह रहे हैं एक्सपर्ट

Khabar 30 din

ताऊ ते तूफान का ट्विन सिटी में असर:गरज-चमक के साथ बारिश होने की संभावना, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

Khabar 30 din

मरवाही उपचुनाव:अमित जोगी और ऋचा दोनों ने नामांकन दाखिल किए; कहा- भूपेश जी, ये पब्लिक है, सब जानती है, कब तक खुद से कुश्ती लड़ते रहेंगे

Khabar 30 Din

अगर वाम मोर्चा और कांग्रेस भाजपा के ख़िलाफ़ हैं तो उन्हें ममता का साथ देना चाहिए: टीएमसी

Khabar 30 din

WHO की अपील रंग लाई:अमेरिका जरूरतमंद देशों को जून में 2 करोड़ वैक्सीन और देगा, 6 करोड़ वैक्सीन का वादा पहले ही कर चुकी है बाइडेन सरकार

Khabar 30 din