ब्रेकिंग न्यूज़
2021-05-01-2_1619931172
प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

जीत की खुमारी में कोरोना के डर को भूल गए इस पार्टी के कार्यकर्ता, जबरदस्ती खिला रहे एक दूसरे को लड्डू,

नई दिल्ली: पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों के लिए मतगणना जारी है। लेकिन रुझानों को देखते हुए विभिन्न पार्टियों के कार्यकर्ता कोरोना के डर को भूलकर जश्न मनाने के लिए सड़कों पर निकल आए हैं। ऐसा ही एक वीडियो तमिलनाडु से सामने आया है, जहां डीएमके के कार्यकर्ता चेन्नई स्थित पार्टी मुख्यालय के बाहर जश्न मनाने के लिए इकठ्ठे हो गए हैं।

हालांकि चुनाव आयोग इस बारे में सख्त हिदायत दे चुका है कि किसी भी दल के कार्यकर्ता जश्न नहीं मनाएंगे। चुनाव आयोग ये निर्देश फिलहाल हवा होते दिखाई दे रहे हैं।

News

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनावों के लिए मतगणना जारी है। यदि तमिलनाडु की बात करें तो यहां डीएमके (द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम) रुझानों में स्पष्ट बहुमत हासिल करती नजर आ रही है। तमिलनाडु में कुल 234 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव हुआ था। इनमें से बहुमत के लिए किसी भी दल को 118 सीटों की जरूरत है।

रुझानों के मुताबिक डीएमके रुझानों में यहां 136 सीटों के साथ बहुमत की ओर बढ़ती नजर आ रही है। इस तरह गठबंधन में सहयोगी होने की वजह से कांग्रेस को भी तमिलनाडु से बड़ी राहत मिलती नजर आ रही है।

इस चुनाव में कांग्रेस के अलावा वाइको के नेतृत्व वाली मारुमलार्ची द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम यानी एमडीएमके और राज्य की 8 छोटी पार्टियां डीएमके के चुनाव चिह्न पर मैदान में उतरी थीं। इसके अलावा डीएमके को चुनाव में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया (मार्क्सवादी), कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया का भी साथ मिला है।

वहीं, एआईडीएमके (ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुन्नेत्र कड़गम) और भाजपा का गठबंधन इन चुनावों में 97 सीटों पर आगे चल रहा है।

तमिलनाडु का ये चुनाव इसलिए भी अहम था क्योंकि पहली बार डीएमके और एआईडीएमके अपने प्रमुख नेताओं के बिना ही चुनावी दंगल में उतरी थीं। बता दें कि 2016 विधानसभा चुनाव के छह महीने बाद ही उस समय की मुख्यमंत्री और एआईडीएमके प्रमुख जे जयललिता की मौत हो गई थी। उसके बाद 2018 में पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके प्रमुख करुणानिधि की भी मौत हो गई।

इस तरह तमिलनाडु में ये चुनाव डीएमके के एमके स्टालिन और एआईडीएमके के पलानीस्वामी के नाक की लड़ाई के तौर पर देखा जा रहा था।

गौरतलब है कि तमिलनाडु में चुनाव दर चुनाव सत्ता परिवर्तन का चलन रहा है। लेकिन बीते दो चुनावों से एआईडीएमके लगातार जीत हासिल करने में सफल रही है। ऐसे में इस बार डीएमके की जीत की प्रचुर संभावना जताई जा रही थी।

संबंधित पोस्ट

छत्तीसगढ़ के 11 स्टील उद्योगों को ऑक्सीजन देने पर केंद्र तैयार, राज्य सरकार ने पिछले दिनों भेजा था प्रस्ताव

Khabar 30 din

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में मुठभेड़ में दो आतंकवादी ढेर, हथियार और विस्फोटक बरामद

Khabar 30 din

मध्य प्रदेश: गोहत्या के शक में दो आदिवासियों की पीट-पीटकर हत्या, नौ लोग गिरफ़्तार

Khabar 30 din

कोरोना देश में:महाराष्ट्र में अब तक 18 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी पॉजिटिव, 186 ने जान गंवाई; यूपी में मरीजों का आंकड़ा 3 लाख के पार; देश में अब तक 46.63 लाख केस

Khabar 30 din

अमेरिका में 12 से 15 साल के टीनएजर्स के लिए वैक्सीन को मंजूरी, ट्रायल में 100% इफेक्टिव; 2 से 11 साल वालों की बारी जल्द

Khabar 30 din

फ़ैज़ाबाद का नाम मिटने से क्या शहर की तक़दीर भी बदल जाएगी…

Khabar 30 din
error: Content is protected !!