ब्रेकिंग न्यूज़
COVID 19 ब्रेकिंग न्यूज़ मध्यप्रदेश लोकल ख़बरें स्वास्थ्य

अब ब्लैक फंगस की दवा का टोटा:भोपाल के हमीदिया अस्पताल में 10 दिन से एंटी फंगस लाइपोसोमल एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन नहीं, मरीजों के परिजन दूसरे शहरों से मंगा रहे

भोपाल
हमीदिया अस्पताल के ईएनटी विभाग के नए वार्ड में 30 बेड में से 25 मरीज भर्ती हैं।
  • हमीदिया अस्पताल में भर्ती 25 ब्लैक फंगस के मरीज
  • इसमें 17 कोरोना से ठीक होने के बाद ब्लैक फंगस से पीड़ित

कोरोना संक्रमण के साथ अब ब्लैक फंगस के बढ़ते मामले ने चिंता बढ़ा दी है। प्रदेश में ब्लैक फंगस के मामले सामने आ रहे हैं। इस बीच इस बीमारी की दवा का भी टोटा शुरू हो गया है। भोपाल के हमीदिया अस्पताल में भर्ती मरीजों के एंटी फंगस लाइपोसोमल एम्फोटेरिसिन-बी या सिर्फ एम्फोटेरिसिन-बी दोनों ही इंजेक्शन 10 दिनों से उपलब्ध नहीं है।

यह सब तब है, जबकि पिछले दिनों इंजेक्शन के लिए डिमांड भेजी जा चुकी है, लेकिन अब तक सप्लाई नहीं हो पाया है। अभी डॉक्टर मरीजों को फ्लुकोनाॅजोल टैबलेट देकर इलाज कर रहे हैं। मामले में ईएनटी विभाग की एचओडी स्मिता सोनी ने बताया, इंजेक्शन की सप्लाई के लिए डिमांड भेजी गई है। अभी पर्चेस प्रक्रिया की जा रही है।

जानकारों का कहना है कि फ्लुकोनाॅजोल टैबलेट भी फंगस को बढ़ने से रोकती है, लेकिन लाइपोसोमल एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन की तुलना में टैबलेट का असर कम है। जानकारों का कहना है कि बीमारी के मरीज साल भर में एक-दो ही आते हैं, जिनकी संख्या अब अचानक से बढ़ गई। दवा कंपनियां खपत कम होने से दवा का कम उत्पादन करती है। इसलिए दवा को लेकर दिक्कत हो रही है। हालांकि वह दवा की कालाबाजारी से भी इंकार नहीं कर रहे।

परिजन संपर्क से ला रहे इंजेक्शन

लाइपोसोमल एम्फोटेरिसिन-बी और प्लेन एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन मरीज के परिजन अपने संपर्क से इंजेक्शन लेकर आ रहे हैं। इस बारे में पूछने पर मरीज के परिजन अपना सोर्स नहीं बता रहे, सिर्फ मुंबई, इंदौर जैसे शहरों से इंजेक्शन मंगाने की बात कह रहे हैं। बता दें, शुक्रवार को हमीदिया अस्पताल के ईएनटी विभाग में बने 30 बेड के नए वार्ड और कोविड वार्ड में कुल 25 मरीज भर्ती हैं। एक ब्लैक फंगस से पीड़ित कोविड संक्रमित मरीज की मौत हो गई।

5 वॉयल लगती हैं एक दिन में

डॉक्टरों का कहना है कि ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीज को एक दिन में लाइपोसोमल एम्फोटरेसिन-बी की 50 एमजी की पांच वाॅयल एक व्यवस्क को एक दिन में लगती है। यह दवा मरीज को दो से तीन सप्ताह तक दी जाती है। इसकी कीमत कंपनी के अनुसार अलग-अलग 4 से 7 हजार रुपए की रेंज में आता है। लाइपोसोमल एम्फोटरेसिन-बी इंजेक्शन की सिर्फ एम्फोटरेसिन-बी इंजेक्शन की तुलना में साइड इफेक्ट कम है और फंगस को मारने की क्षमता ज्यादा है।

हमीदिया के ईएनटी विशेषज्ञ डॉ. यशवीर ने बताया कि शुक्रवार को नॉन कोविड वार्ड में दो ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीजों को भर्ती किया गया है। कोरोना मरीजों को इलाज के दौरान स्टेरॉयड दिया जाता है। इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। ऐसे मरीजों पर ब्लैक फंगस की चपेट में आ जाते हैं। यह नई बीमारी नहीं है। इस तरह के पहले भी मामले आते थे। पहले साल भर में दो से तीन मामले आते थे।

लाइपोसोमल एम्फोटरेसिन-बी इंजेक्शन की खरीदी के लिए कॉर्पोरेशन को लिखा है। इसके अलावा बाहर मार्केट में भी पता कराया है। यह दवा उपलब्ध नहीं है। अभी मरीजों को सभी जरूरी उपलब्ध दवाओं से इलाज किया जा रहा है।

– जितेन्द्र शुक्ला, डीन, गांधी मेडिकल कॉलेज, भोपाल

संबंधित पोस्ट

अमेरिका में बच्चों को लग रही कोरोना वैक्सीन को लेकर माता-पिता उठाने लगे सवाल, भारत में भी वही टीका लाने की तैयारी; जानिए क्या हैं उनकी चिंताएं..

Khabar 30 din

कोविड के मरीजों को अब अस्पताल में दाखिले के लिए कोरोना पोजिटिव रिपोर्ट की जरूरत नहीं होगी

Khabar 30 din

कॉमेडियन भारती सिंह गिरफ्तार:भारती के घर और ऑफिस से NCB को 86.5 ग्राम गांजा मिला, पति हर्ष के साथ गांजा लेने की बात कबूली

Khabar 30 Din

फ्रंट गियर:अब झूठ बोलकर पैसे नहीं ऐंठ सकेगा मैकेनिक! कार में लगाना होगा बस ये छोटा सा डिवाइस, ऐप पर बताएगा गाड़ी के किस पार्ट में है प्रॉब्लम, माइलेज की भी जानकारी देगा

Khabar 30 din

School Reopen News: कोरोना संक्रमण के बीच इस राज्य में दोबारा खुले स्कूल

Khabar 30 Din

फर्जी शॉपिंग वेबसाइट के जरिए पीड़ितों को बनाया निशाना:तीन साल में 10 हजार से ज्यादा लोगों को लगाई 25 करोड़ की चपत, आरोपियों में दो ग्रेजुएट भी

Khabar 30 din