ब्रेकिंग न्यूज़
COVID 19 उत्तरप्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र के एक ही गांव में 20 की मौत; एक घर से निकली तीन-तीन लाशें, न सैंपलिंग हो रही, न सैनिटाइजेशन

अमेठी
  • केंद्रीय मंत्री और अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी ने सात मई को किया था अमेठी का दौरा
  • इस दौरान वह कुछ गावों में गईं थी और वहां के हालात की जानकारी ली थी, हालांकि इस गांव में वह नहीं पहुंची थीं

उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में भी कोरोना भयावह रूप ले चुका है। कई गांव ऐसे हैं जहां एक ही महीने में 20 से 30 लोगों की जान चुकी है, पर वहां टेस्टिंग तक नहीं हो रही है। सर्दी जुकाम होता है और कुछ दिन में ही मरीज की जान चली जाती है। ऐसी डरावनी स्थिति केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र के एक गांव में देखने को मिल रही है। अमेठी के हारीमऊ गांव में 20 लोगों की मौतों का मामला समाने आया है।ग्रामीणों का कहना है कि पिछले एक साल में इतनी मौतें नहीं हुईं जितनी एक महीने में हो गई हैं।

गांव का दौरा करने पर हारीमऊ गांव के लोगों ने जो कुछ बताया वो काफी चौंकाने वाला पहलू रहा। गांव के निवासी राजेंद्र कौशल कहते हैं कि, ये सच्चाई है 17-18 मौते हुई हैं। एक-एक घर से तीन-तीन लाशें निकली हैं। एंबुलेंस को फोन किया जाता है। आती है तो वो मरीज को उठाते तक नहीं। अगर घर वाले नहीं उठाते तो एंबुलेंस वापस चली जाती है। आशा बहुएं आकर दवा देकर चली जा रही हैं।

गांव में पसरा हुआ सन्नाटा।
गांव में पसरा हुआ सन्नाटा।

वहीं इसी गांव के रहने वाले शहनवाज का कहना है, किस कारण मौत हुई है इसकी वजह नहीं पता। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की टीम आकर दवा देकर चली जाती है। उनके अनुसार न कोई जांच किसी की हुई, न सेनेटाइजिंग हुई। लोग डरे हुए हैं, यहां पास में अस्पताल है टीम आई थी वहां दवा देकर चली गई।

आज तक एक साथ इतनी मौतें नहीं देखी
इधर 51 साल के महिपथ बताते हैं कि, मौत के कारणों का कोई पता नहीं चल सका है। मेरी इतनी उम्र में आजतक इतनी मौतें कभी नहीं हुई। पूरे एक साल में भी इतनी मौतें कभी नहीं हुई। जितनी इस महीने में हो चुकी हैं 18-20 मौतें। ग्राम प्रधान मोतीलाल का कहना है कि हमारे गांव में करीब 20 मौतें हुई हैं, किस वजह से हुई स्वास्थ्य विभाग की टीम आई लेकिन सही जानकारी नही जुटा पाई। टीम जो आई उसने न सैंपलिंग की न जांच, अस्पताल में दवा दिया और चलते बने।

गांव में बंद पड़ी दुकाने।
गांव में बंद पड़ी दुकाने।

इस पूरे मामले पर अमेठी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMO) आशुतोष दुबे का कहना है कि, वैक्सीनेशन के लिए ग्रामीणों को स्वास्थ्य केंद्र पर आना पड़ेगा। वैक्सीन का एक प्रोटोकॉल है वैक्सीन गांव में नहीं लगाई जा सकती है। पूरे गांव में छिड़काव कराया गया है। लक्षण युक्त व्याक्तियों की पहचान कर दवा दी गई है। सैंपलिंग कराई गई है।

संबंधित पोस्ट

साइक्लोन यास पर हाईलेवल मीटिंग:PM मोदी ने रेस्क्यू की तैयारियों का रिव्यू किया, बोले- हाई रिस्क वाले इलाकों से लोगों को शिफ्ट करने का इंतजाम करें

Khabar 30 din

कुंभ 2021: आलोचनाओं के बाद सरकार ने कहा- 49 लाख नहीं केवल 21 लाख लोग शामिल हुए

Khabar 30 din

रायपुर में वारदात:जनता कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता से लूट की कोशिश, विरोध करने पर चाकू से हमला; संगठन ने कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए

Khabar 30 din

आर्या राजेन्द्रन बनेगी देश की सबसे कम उम्र की मेयर, BJP के तेजस्वी सूर्या की काट के रूप में CPI बढ़ा रही है आगे SHARE THIS:

Khabar 30 din

जगदलपुर में 10 मेडिकल स्टाफ को कोरोना:मेडिकल कॉलेज में रखी थी फेयरवेल पार्टी, बाहरी के भी शामिल होने की चर्चा; सभी होम आइसोलेट

Khabar 30 din

MP में पहली बार एक्टिव केस 1 लाख के पार:इलाज कराने वाले कोरोना मरीजों की संख्या 7 दिन में 15,297 बढ़ी, इसमें इंदौर अव्वल

Khabar 30 din