नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। दूसरी लहर के आने के बाद देश भर में COVID-19 के बढ़ते मामलों के बीच सरकार और मेडिकल एसोसिएशन फिर से लोगों से मास्क के उपयोग को गंभीरता से लेने का आग्रह कर रहे हैं। भले ही हम वैक्सीन लगवा रहे हैं, लेकिन वायरस से सुरक्षित रहने का जो अभ्यास है, उसे हमें नहीं छोड़ना चाहिए, और संक्रमित होने से बचने के लिए मास्क जरूर पहनना चाहिए।

मास्क के महत्व को देखते हुए, हमें मास्क को लेकर खुद को शिक्षित करना जरूरी है। जैसे मास्क के प्रकार कितने हैं और सार्वजनिक स्थानों पर किस तरह से मास्क पहनना चाहिए।

कपड़े के मास्क 

कपड़े के मास्क वोवेन या नॉन वोवेन नेचुरल सिंथेटिक मटेरियल की परतों से बनाए जाते हैं। ये फेस मास्क ड्रॉपलेट स्प्रे को 8 फीट से घटाकर 2.5 इंच कर सकते हैं, जिससे आपके द्वारा हवा में छोड़े जाने वाले संभावित वायरस युक्त कणों की मात्रा कम हो जाती है। होममेड क्लॉथ फेस मास्क की प्रभावशीलता काफी हद तक इसके डिजाइन पर निर्भर करती है। जॉन्स हॉपकिन्स मेडिसिन के अनुसार, घने वोवेन वाले कॉटन के कपड़े जैसे कि क्विल्टिंग कॉटन सबसे अच्छा होता है। वहीं, सिंगल-लेयर क्लॉथ मास्क डबल या ट्रिपल लेयर मास्क की तुलना में कम प्रभावी होता है। हालांकि, लेयर्स की संख्या अतिरिक्त सुरक्षा का संकेत नहीं देती, क्योंकि इन साधारण कपड़ों में इतना गैप्स जरूर होता है कि छोटे वायरस एरोसोल अंदर आ सकते हैं।