ब्रेकिंग न्यूज़
छत्तीसगढ़ भ्रष्टाचार

कटघोरा वन मण्डल के जडगा, केन्दई, एतमानगर, चैतमा और कटघोरा वनपरिक्षेत्र में जमकर घोटाला, फर्जी देयक भुगतान का मामला, आर०टी०आई० के जरिये वनमण्डल से मांगा गया दस्तावेज, और बैंक स्टेटमेन्ट के ट्रांजेक्सन दस्तातेजों की छायाप्रति?

अब्दुल सलाम कादरी
9424257566, 9406278886
प्रधान सम्पादक-खबर 30 दिन, बीबीसी लाईव

सूत्र ने बताया कि वन मण्डलाधिकारी की पोस्ट पर एक एसडीओ की पदस्थापना ही गलत तरीके से की गई है जिसकी शिकायत राज्यपाल के समक्ष करने की बात सामने आ रही है।

करप्सन फ्री राज्य का सपना देखने वाले मुख्यमंत्री श्री भूपेस बघेल के आदेशो की धज्जीयां उड़ाई जा रही है। 2020-21 में पदस्थ जडगा रेन्जर इनके कार्यकाल में करोड़ों रूपयों का घोटाला हो चूका है?  जिसकी जांच किया जाना अतिआवश्यक हे ये अपनी पहूंच वनमन्त्री मो० अकबर तक बताते है और कहते है कि मेरा तत्कालीन वनमन्त्री मो० अकबर से घरेलू सम्बन्ध है? इनकी पहूंच का अन्दाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि करोड़ो का घोटाला करने के बावजूद आज दिनांक तक ना तो महालेखाकार और ना ही वनमन्त्रालय, ना ही एसीबी, ना ही ईओडब्ल्यू इन तक पहुंच सका है, कारण साफ है सत्ता में पहूंचं, जिसका फायदा यह आज तक उठाते आए है।

2014 से 2021 तक वन परिक्षेत्र जडगा में जितने भी कार्य हूए है चाहे पौधा रोपड़ से निर्माण कार्य हो खरीदी हो या फिर समीतियों के नाम पर फर्जी देयक भूगतान हो अगर इमानदारी से जांच कर दी जाए तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा?
वन परिक्षेत्र जडगा में अघोषित ठेकेदारो से मिलकर चांदी काटा गया है?

कटघोरा वन मण्डल के मुख्यतः पांच रेंजो जडगा, एतमानगर, कटघोरा, चैतमा और केन्दई में वित्तीय वर्ष २०१९-२०, २०२०-२१ में फर्जी देयक भुगतान प्रमाणको से शासन को लाखों रुपयों का चूना लगाने का काम किया जा रहा। सूत्रों की माने तो एडवांस भुगतान प्रमाणक के चेक काटे जा चूके है जिससे बजट लेप्स ना हो जाये, और कार्य का कुछ अता पता नहीं है।

ये पांचो रेन्ज ऐसे वनपरिक्षेत्र है जो मुख्यतः वनों से आच्छादित है। यहां पर जंगलो के भीतर क्या हो रहा है इससे शासन में बैठे उच्चाधिकारियों को कोई लेना देना नही है, बस उनको कमीशन पहुँच जाए उनके लिए इतना ही काफी है।

पूर्व में इस वनमण्डल में गोबर खाद घोटाला एक प्रमुख मूद्वा था जिसकी जांच को कूछ चन्द लालची अधिकारियों ने अपनी लालच से मामले को दबा दिया या यो कहिए कि जांच ही नहीं हुई अगर हुई तो सिर्फ फाईलों मे हुई। वर्तमान में भी गोबर खाद खरीदी हुई है जिसमें तत्कालीन डीएफओ की भूमिका संदिग्ध है? जिसकी शिकायत जल्द होने की बात कही जा रही है।

मार्च का महीना डीएफओ, एसडीओ, और प्रभारी रेंजरों के लिए स्वर्ण महीना माना जाता है इसमें प्रत्येक रेंज में लाखो रुपयों का वारा न्यारा हो जाता है। फर्जी देयक भुगतान बनाकर डीएफओ के माध्यम से चेक आहरण कर अपना अपना हिस्सा बांट लिया जाता है, कुछ हिस्सा मंत्री सन्तरी, और अपने उच्चाधिकारियों को पहुँचा दिया जाता है।

VAn MANDAL फर्जी प्रमाणको में फर्जी खरीदी-गोबर खाद, बीज, पौधे , यूरिया, निम खली, बोनमिल, रासायनिक इत्यादि को सिर्फ कागजों तक मे सीमित करके रखा जाता है। दिखावे के लिए कुछ मात्रा में खरीद भी लिया जाता है,पहुच वाले प्लांटेशन में कुछ मात्रा में इन चीजो को डाल भी दिया है, बाकी का अंदर कर लिया जाता है, निर्माण कार्य में लगने वाले सामग्रियों में भी इसी प्रकार किया जाता है। हमने इस मामले में आरटीआई के जरिये जानकारी वनमंडल से मांगी है, कोरोना के खत्म होने का इंतजार किया जा रहा है उसके बाद इन रेंजरों और इनके आला अधिकारियों को सबूत सहित बेनकाब किया जाएगा।

इस मामले में हमने आने वाले विधानसभा सत्र के लिए दस्तावेज इकठ्ठा करके नेताप्रतिपक्ष को सौंप कर सवाल के जरिये जवाब मांगा जाएगा। देखने में यह भी आया है कि स्थानीय पत्रकारों को 5 हजार से लेकर 10 हजार तक होली का लिफाफा बांटा गया है? आखिर यह पैसा क्या इनके बाप दादाओ ने वनमण्डल के तीजोरी में बंद करके गए है करीब 20 से 25 लाख रूपए नेताओ और पत्रकारो को बांट दिए गए है जिसकी जांच होनी अतिआवश्यक है? इन जैसे अधिकारियों ने देश का बेड़ा गर्ग कर रखा है। ये ऐसे अधिकारी है जो दीमक से भी खतरनाक है इन जैसे अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही और रिकवरी जरूर होना चाहिए?

सूचना का अधिकार में इतने डरते है कि जानकारी देने में इनकी नानी मरती है ज्अगर इमानदार हो तो डर कैसा, मर्द के बच्चे हो तो जानकारी दो, अगर भ्रष्ट हो तो जानकारी बिलकूल नहीं देना?

बिलासपूर के एक रिटायर्ड जज ने नाम ना छापने की शर्त पर कहा कि वनमण्डल का कोई भी प्रमाणक उठाकर देख लो अगर आर०टी०आई० कार्यकर्ता चाहे तो हर प्रमाणकों में इन अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया जा सकता है और इनको जेल की सलाखों के पीछे डाला जा सकता है।

वन परिक्षेत्र जडगा और केन्दई की अगली खबर जल्द  प्रसारित की जाएगी…….

संबंधित पोस्ट

राजनांदगांव में ASI की दरिंदगी:घर में खाना बनाने आई 15 साल की लड़की से रेप, दोनों पैर जलाए; मां की रिपोर्ट पर आरोपी गिरफ्तार

Khabar 30 din

छत्तीसगढ़ में शराब में होम्योपैथिक दवा मिलाकर पीने से 9 लोगों की मौत, 4 अस्पताल में भर्ती; पूरी बस्ती की जांच हो रही

Khabar 30 din

म्यूकरमाइकोसिस का फ्री इलाज:ब्लैक फंगस का प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में इलाज फ्री, 3500 रुपए तक का इंजेक्शन 21 दिन तक लगता है

Khabar 30 din

रायपुर सहित अधिकतर जिलों के लिए आज जारी होगी गाइडलाइन, 17 मई को खत्म होगी लॉकडाउन की अवधि

Khabar 30 din

धमतरी डबल मर्डर में 2 और गिरफ्तार:पुलिस ने मुख्य आरोपी के मां-मामा को भी किया गिरफ्ता

Khabar 30 din

रेप का आरोपी यूपी से गिरफ्तार

Khabar 30 din