ब्रेकिंग न्यूज़
छत्तीसगढ़ प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़ लोकल ख़बरें सोशल मीडिया स्वास्थ्य

दुर्ग में ब्लैक फंगस के सबसे ज्यादा 28 केस:यहां अब तक 5 मरीजों की मौत

दुर्ग

छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगस तेजी से फैल रहा है। स्वास्थ्य विभाग के ताजा आंकड़ों के मुताबिक इस बीमारी के मरीजों की संख्या 148 के करीब पहुंच चुकी है। सबसे ज्यादा दुर्ग जिले में 28 मरीजों की पुष्टि हो चुकी है जबकि 3 की मौत भी हो चुकी है। कोरोना संक्रमण के बाद अब इस बीमारी ने स्वास्थ्य विभाग के सामने कई चुनौतियां खड़ी कर दीं हैं।

रायपुर, दुर्ग में ब्लैक फंगस से मौत
राज्य में दो जिलों में अब तक ब्लैक फंगस से 5 मरीजों की मौत हो चुकी है। इनमें रायपुर में 4 और एक दुर्ग के भिलाई का मरीज शामिल है। वहीं दुर्ग के CMHO के मुताबिक, दुर्ग में तीन मरीजों की मौत हुई है। संभाग के बालोद, बेमेतरा व कवर्धा जिलों में अभी तक ब्लैक फंगस के मरीज मिलने की पुष्टि नहीं हुई है। दुर्ग के 28 मरीजों में से 14 रायपुर के AIIMS में, 12 भिलाई स्टील प्लांट (BSP) के सेक्टर-9 अस्पताल में इलाज करा रहे हैं, जबकि जिले के निजी अस्पताल में दो मरीजों का इलाज जारी है।

ब्लैक फंगस मरीज का इलाज जारी है। दुर्ग जिले में 28 मरीजों का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है।
ब्लैक फंगस मरीज का इलाज जारी है। दुर्ग जिले में 28 मरीजों का अलग-अलग अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है।

ENT सर्जन ने कहा- ब्लैक फंगस है खतरनाक
आंख, नाक, कान और गला रोग विशेषज्ञ डॉक्टर राकेश गुप्ता बताते हैं कि यहां ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए दवाईयों की कमी है। इसके अलावा अन्य जगहों के मोर्टेलिटी रेट के बराबर ही यहां पर असर है। यह बीमारी बहुत ही खतरनाक है। ज्यादातर कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में ही ज्यादा हो रही है। यह बीमारी उत्तर भारत में ज्यादा होती है,क्योंकि वहां के लोग खेतों में कीटनाशकों का छिड़काव करते हैं। छत्तीसगढ़ में यह बीमारी बहुत कम होती है। हर साल करीब 4 से 6 ही मरीज यहां मिलते थे। इस बार यह बीमारी कुछ ज्यादा ही फैल रही है।

क्या है ब्लैक फंगस
ये एक फंगल डिजीज है, जो म्युकरमायकोसिस नाम के फंगस से होता है। ये ज्यादातर उन लोगों को होता है जिन्हें पहले से कोई बीमारी हो या वो ऐसी मेडिसिन ले रहे हों जो बॉडी की इम्युनिटी को कम करती हों या शरीर की दूसरी बीमारियों से लड़ने की ताकत कम करती हों। ये शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है। ज्यादातर सांस के जरिए वातावरण में मौजूद फंगस हमारे शरीर में पहुंचते हैं। अगर शरीर में किसी तरह का घाव है या शरीर कहीं जल गया तो वहां से भी ये इन्फेक्शन शरीर में फैल सकता है। इसे शुरुआती दौर में ही डिटेक्ट नहीं किया गया तो आंखों की रोशनी जा सकती है।

ऐसे कर सकते हैं बचाव

ब्लैक फंगस संक्रमण से बचने के लिए डॉक्टरों ने कुछ उपाय बताए हैं। उसके मुताबिक धूल भरे स्थानों में मास्क पहनकर, शरीर को पूरे वस्त्रों से ढंक कर, बागवानी करते समय हाथों में दस्ताने पहन कर और व्यक्तिगत साफ-सफाई रख कर इससे बचा जा सकता है।

संबंधित पोस्ट

इमरती देवी ने दिया इस्तीफा:उपचुनाव हारने के 14 दिन बाद महिला बाल विकास मंत्री ने पद छोड़ा, कंसाना और दंडोतिया पहले ही दे चुके हैं इस्तीफा

Khabar 30 din

उत्तर प्रदेश: बिजनौर में अपनी दोस्त के साथ जा रहे लड़के को लव जिहाद के आरोप में जेल भेजा

Khabar 30 din

निहंग नेता के साथ कृषि मंत्री की तस्वीर पर विवाद, पैसे के बदले किसान धरना स्थल से हटने का आरोप

Khabar 30 din

गुजरात सरकार ने मनरेगा को सराहा, महामारी के दौरान श्रमिकों के लिए ‘जीवन रक्षक’ बताया

Khabar 30 din

MP के 20 जिले तरबतर:8 दिन धूप के बाद फिर पानी, होशंगाबाद में सबसे ज्यादा ढाई इंच बारिश; इस हफ्ते कई और जिलों में तेज बारिश का अलर्ट

Khabar 30 din

रेप का आरोपी यूपी से गिरफ्तार

Khabar 30 din