ब्रेकिंग न्यूज़
छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ के गांवों का विकास ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति लोकल ख़बरें सोशल मीडिया

90 समितियों के 400 कर्मचारियों का इस्तीफा:कवर्धा में 5 लाख क्विंटल से ज्यादा के धान का नहीं हुआ उठाव, 2 हजार क्विंटल से ज्यादा बारिश में सड़ गया; इसलिए 3 माह से वेतन नहीं मिलने पर भड़के

कवर्धा
  • धान उठाव नहीं होने के विरोध में कर्मचारियों ने पुरानी मंडी में विरोध प्रदर्शन भी किया है।

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले की 90 समितियों में कार्यरत 400 कर्मचारियों ने सोमवार को इस्तीफा दे दिया। केंद्रों से 5 लाख क्विंटल से ज्यादा धान का उठाव नहीं होने के कारण कर्मचारी नाराज हैं। आरोप है कि धान उठाव नहीं होने के कारण समितियों को नुकसान हो रहा है। इसके चलते उनको तीन माह से वेतन तक नहीं मिला है। वहीं बारिश के चलते अकेले लोहारा ब्लॉक के सूरजपुरा जंगल केंद्र में रखा 2000 क्विंटल से धान खराब हो गया है।

जिला सहकारी समिति कर्मचारी संघ के बैनर तले कर्मचारियों ने कवर्धा के पुरानी मंडी में प्रदर्शन किया है। प्रदेश में ऐसा पहली बार है जब धान का उठाव नहीं होने से कर्मचारियों ने एक साथ इस्तीफा देने की घोषणा की है। समिति के 94 केंद्रों में काम करने वाले क्लर्क को 15 हजार और विक्रेता को 10 हजार रुपए प्रतिमाह वेतन दिया जाता है।

गर्मी और बारिश की वजह से सूरजपुरा जंगल धान खरीदी केंद्र में 2 हजार क्विंटल धान सड़ा गया है। इसके अलावा अलग-अलग केंद्रों में भी धान खराब हु हैं।
गर्मी और बारिश की वजह से सूरजपुरा जंगल धान खरीदी केंद्र में 2 हजार क्विंटल धान सड़ा गया है। इसके अलावा अलग-अलग केंद्रों में भी धान खराब हु हैं।

39 लाख 34 हजार 600 क्विंटल धान खरीदी हुई

दरअसल कवर्धा जिले में 94 धान खरीदी केंद्र हैं। यहां पिछले वित्त वर्ष में कुल 39 लाख 34 हजार 600 क्विंटल धान खरीदी की गई। लेकिन अब भी जिले के अलग-अलग धान खरीदी केंद्रों में 5 लाख क्विंंटल धान खुले में पड़ा हुआ है। इतना ही नहीं बारिश और गर्मी के कारण कई केंद्र में तो धान ही खराब हो हए हैं। जिसका नुकसान अब जिला सहकारी समिति को उठाना पड़ रहा है। जिले के लोहारा ब्लॉक के सूरजपुरा जंगल धान खरीदी केंद्र में 2 हजार क्विंटल धान सड़ा गया है। इसके अलावा भी अलग-अलग केंद्रों में धान पड़े-पड़े खराब हो रहे हैं।

मार्च तक हो जाता था उठाव

जिला सहकारी समिति कर्मचारी संघ के संरक्षक ईश्वरी साहू का कहना है कि एक तो समय से धान का उठाव नहीं हुआ है। ऊपर से इन खराब हुए धान का भुगतान समिति को करना है, ये तो गलत है। आम तौर मार्च महीने तक उठाव हो जाता था। लेकिन इस बर जून तक भी उठाव नहीं हुआ है। जब समय पर उठाव ही नहीं हो रहा है तो इसमें समिति की क्या गलती है। कर्मचारियों को सैलरी भी नहीं मिली है। ऐसे में हमने सामूहिक रूप से इस्तीफा देने का निर्णय लिया है। कर्मचारियों ने जिला सहकारी समिति कर्मचारी संघ बैनर तले अपना इस्तीफा कवर्धा के सहकारी संस्थाएं के उप पंजीयक को भेजा है। हालांकि कि अभी कर्मचारियों का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया गया है।

संबंधित पोस्ट

यूपी में सियासी अटकलों का बाजार गर्म, बीजेपी प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह ने राज्यपाल से की मुलाकात

Khabar 30 din

MP में नकली रेमडेसिविर मामले में विहिप नेता पर FIR:गुजरात से नकली इंजेक्शन मंगवाकर अपने सिटी अस्पताल में संक्रमितों को लगवाए; नाम आने पर बनाया था हार्ट अटैक का बहाना

Khabar 30 din

Remembering Stephen Hawking: Books and quotes from the scientist that prove his genius

Khabar 30 din

बंगाल के गांवों में बाढ़ का खतरा, दुर्गापुर बांध का गेट हुआ क्षतिग्रस्त

Khabar 30 Din

महामारी पर राहत भरा दावा:एम्स के डायरेक्टर बोले- कोरोना की तीसरी लहर का बच्चों पर गंभीर असर पड़ने के संकेत नहीं, लोग डरना बंद करें

Khabar 30 din

भोपाल धीरे-धीरे ही खुलेगा:चिकित्सा शिक्षा मंत्री सारंग बोले- कोरोना पॉजिटिव के घर के बाहर स्टीकर लगाएंगे; संक्रमितों की शिकायत 1075 पर देकर कोरोना चेन तोड़ें

Khabar 30 din