ब्रेकिंग न्यूज़
देश विदेश प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़

चीन बना रहा सुपर ह्यूमन:52 देशों की 80 लाख गर्भवती महिलाओं के डेटा पर चल रही रिसर्च, अमेरिका को डर- अब नई बीमारी फैलाएगा चीन

बीजिंग

दुनिया में अपना वर्चस्व कायम करने के लिए चीन खतरनाक प्रयोगों में जुटा रहता है। कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर दुनिया भर की जांच एजेंसियों की निगाह में आ चुका चीन अब सुपरह्यूमन प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। इसके लिए वह 52 देशों की 80 लाख से ज्यादा गर्भवती महिलाओं के जेनेटिक डेटा का चोरी-छिपे अध्ययन कर रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि चीन की सेना (पीएलए) ने इस काम में चीनी कंपनी बीजीआई की मदद ली है। यह कंपनी दुनियाभर में गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्ण जांच से जुड़ी हुई है। इस जांच के बहाने बीजीआई ग्रुप ने बड़ी संख्या में गर्भवतियों का जीन डेटा एकत्र कर लिया है।

बारीकी से की जा रही स्टडी
इसे निफ्टी (नॉन इन्वेसिव फैटल ट्रिजोमी) डेटा के तौर पर जाना जाता है। इसमें महिला की उम्र, वजन, लंबाई और जन्म स्थान की जानकारी होती है। ऐसे ही कुछ तथ्यों के आधार पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिए ऐसे गुणों का पता लगाया जा रहा है, जिनसे भविष्य में पैदा होने वाली आबादी के शारीरिक गुणों में बदलाव किया जा सके।

बाइडेन को मार्च में ही मिल गई थी चेतावनी
बाइडेन प्रशासन के सलाहकारों ने मार्च में चीन की इस तैयारी की चेतावनी दी थी। अमेरिकी विशेषज्ञ चिंतित हैं कि यह प्रयोग सफल रहा तो दुनिया भर की फॉर्मा कंपनियां चीन से जुड़ेंगी। इससे बाद चीन इन कंपनियों पर हावी होकर षड्यंत्र कर सकता है। उन्होंने आशंका जताई कि इससे चीन आनुवंशिक रूप से उन्नत महाबली सैनिक तैयार करेगा।

कंपनियों को मजबूर कर सकता है चीन
अमेरिका को बड़ा डर यह भी है कि चीन इस तकनीक के जरिए रोग पैदा करने वाले जीवाणु, विषाणु विकसित कर गंभीर बीमारियां फैला सकता है। पूर्व अमेरिकी काउंटर इंटेलिजेंस ऑफिसर अन्ना पुगलिसी कहती हैं कि चीन अपने यहां काम करने वाली कंपनियों को राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर सहयोग के लिए मजबूर कर सकता है।

भारत के लिए अहम, क्योंकि सीमा पर तैनात सैनिकों को प्रयोग से जोड़ा
इस डीएनए डेटा विश्लेषण के आधार पर चीनी सेना और बीजीआई ग्रुप साथ मिलकर सैनिकों के जीन में बदलाव कर उन्हें गंभीर बीमारियों से सुरक्षित कर रहे हैं। माना जा रहा है कि इससे सैनिकों को ज्यादा ऊंचाई वाले मोर्चों पर बीमारी और सुनने की क्षमता में कमी संबंधी बीमारियों से छुटकारा मिल सकता है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले सालभर से भारत-चीन सीमा पर तैनात ज्यादातर चीनी सैनिक बीमार पड़े हैं। इसलिए प्रयोग में इन सैनिकों को शामिल किया गया। अगर चीन प्रयोग में सफल हो जाता है तो उसके सैनिक ज्यादा समय तक ऊंचाई वाले इलाकों में तैनात रह सकेंगे।

संबंधित पोस्ट

ससुर-बहू ने मर्यादा लांघी:बेटे ने पिता और अपनी पत्नी को कुल्हाड़ी से काट डाला; तीन दिन पहले भी दोनों को आपत्तिजनक हालत में देखकर समझाया था, लेकिन दोनों नहीं मान रहे थे

Khabar 30 din

हाथरस गैंगरेप: एसपी समेत कई अधिकारी निलंबित, योगी आदित्यनाथ से इस्तीफ़ा देने की मांग

Khabar 30 din

मध्‍य प्रदेश में 23 करोड़ के स्प्रिंकलर घोटाले में 11 कंपनियां ब्लैक लिस्ट

Khabar 30 Din

मॉल से छलांग लगाने का मामला:एसआई कुर्सी पर बैठकर बयान लेने लगीं तो चीखी साेनिया, बोली- कुर्सी पर पति शुभम बैठे हैं आप उनकी गोद में कैसे बैठ गई, वहां से उठो

Khabar 30 din

राज्य में 24 घंटे में रिकॉर्ड 4617 केस मिले, दुर्ग में ये आंकड़ा 996 पहुंचने के बाद 6 से 14 अप्रैल तक टोटल लॉकडाउन

Khabar 30 din

मध्य प्रदेश उपचुनाव:शिवराज समेत 9 नेताओं के प्रचार पर रोक लगाने की मांग, चुनाव आयोग को भाजपा के अभद्र बयानों की कॉपी सौंपेगी कांग्रेस

Khabar 30 Din