ब्रेकिंग न्यूज़
14_08_2021-farmer_dry_land2
अन्य कृषि छत्तीसगढ़ बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ लोकल ख़बरें

छत्तीसगढ़ में जमीन का बनेगा आधार कार्ड, धोखेबाजी रोकने में मिलेगी मदद

रायपुर, राज्य ब्यूरो। : आम आदमी के आधार कार्ड की तरह ही प्रदेश में अब हर जमीन की अपनी अलग पहचान होगी। केंद्र सरकार इसके लिए खास नंबर जारी करेगी। केंद्र ने इसे विशिष्ट भूमि पार्सल पहचान संख्या (यूएलपीआइएन) नाम दिया गया है। इस नई पहचान के बावजूद जमीन के पुराने नंबर (खसरा आदि) रहेंगे। राजस्व विभाग के अफसरों के अनुसार यह केंद्र सरकार की योजना है। इसके तहत 2023-24 तक देशभर में सभी जमीन का 11 अंकों यूएलपीआइएन नंबर जारी किया जाना है। इसके जरिये जमीन से संबंधित धोखाधड़ी को रोकना आसान होगा।

यूएलपीआइएन नंबर को लेकर राजस्व विभाग ने राज्य के सभी कलेक्टरों को निर्देश जारी किया है। इसमें कहा गया है कि अभी तक ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि के प्रत्येक भू-खंड को एक विशिष्ट संख्या दिया जाता है, जिसे खसरा नंबर के रूप में जाना जाता है। खसरा पांचसाला में खसरा नंबर से संबंधित भूमि के स्वामित्व इत्यादि का विवरण लिखा जाता है जो कि भुंइया साफ्टवेयर में भी दिखता है।

ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक खसरा नंबर को जियोरिफ्रेस के बाद यूएलपीआइएन नंबर दिया जाना है, जिससे प्रत्येक भूखंड की वास्तविक स्थिति पूर्ण वितरण के साथ आसानी से उपलब्ध होगी। अफसरों का कहना है इस नंबर की सहायता से भूमि संबंधी महत्वपूर्ण विभागीय कार्यों का निष्पादन पारदर्शिता के साथ सरलतापूर्वक किया जा सकेगा। अफसरों के अनुसार इसके जरिये जमीन की धोखाधड़ी से संबंधित अपराधों को भी रोकने में मदद मिल सकती है।

अक्षांश और देशांतर पर आधारित होगा नंबर

अफसरों के अनुसार, यूएलपीआइएन नंबर जारी करने के लिए हर जमीन का सेटेलाइट सर्वे और फाटोग्राफी होगी। जमीन के हर टुकड़े के अक्षांश और देशांतर के आधार पर उसकी पहचान तय की जाएगी और फिर उसे नंबर जारी किया जाएगा। देश के नागरिकों को जारी किए गए आधार नंबर की तरह हर जमीन का अलग नंबर और पहचान होगी।

बैंक और आधार से भी जोड़ जाएगा

प्रदेश में जमीन के खसरा नंबर के आधार पर उसे भू-स्वामी के आधार नंबर से जोड़ने की प्रक्रिया पहले से चल रही है। शहरी क्षेत्रों में यह काम काफी हद तक हो चुका है। अब यूएलपीआइएन नंबर को भी भू-स्वामी के आधार और बैंक खाते से जोड़ा जाएगा। इससे सरकार की विभिन्न योजनाओं का सीधा लाभ उन्हें मिल सकेगा।

संबंधित पोस्ट

ऑनलाइन क्लास से मोहभंग:कॉलेजों के सिर्फ 35% छात्र ही ऑनलाइन क्लास में उपस्थित हो रहे, सूचना देने के बाद भी कोई असर नहीं

Khabar 30 din

Weather Alert: अगले 24 से 48 घंटे में इन इलाकों में तेजी से गिरेगा पारा, हर साल से ज्यादा पड़ेगी सर्दी !

Khabar 30 Din

खेती से जुड़े बिलों के विरोध पर प्रधानमंत्री:नरेंद्र मोदी ने कहा- कई दशकों तक सत्ता में रहने वाले अब किसानों को भड़काने की कोशिश कर रहे, उनसे झूठ बोल रहे

Khabar 30 din

कोविड-19: भारत में संक्रमण के मामले 2.8 करोड़ से अधिक, विश्व में कुल केस 17 करोड़ के पार

Khabar 30 din

निहंग समूहों ने कृषि मंत्री से ‘गोपनीय’ मुलाक़ात करने वाले अमन सिंह का बहिष्कार किया

Khabar 30 din

केरल: पिनराई विजयन के नए कैबिनेट में निवर्तमान स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा को नहीं दी गई जगह

Khabar 30 din
error: Content is protected !!