ब्रेकिंग न्यूज़
अन्य कृषि छत्तीसगढ़ बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ लोकल ख़बरें

छत्तीसगढ़ में जमीन का बनेगा आधार कार्ड, धोखेबाजी रोकने में मिलेगी मदद

रायपुर, राज्य ब्यूरो। : आम आदमी के आधार कार्ड की तरह ही प्रदेश में अब हर जमीन की अपनी अलग पहचान होगी। केंद्र सरकार इसके लिए खास नंबर जारी करेगी। केंद्र ने इसे विशिष्ट भूमि पार्सल पहचान संख्या (यूएलपीआइएन) नाम दिया गया है। इस नई पहचान के बावजूद जमीन के पुराने नंबर (खसरा आदि) रहेंगे। राजस्व विभाग के अफसरों के अनुसार यह केंद्र सरकार की योजना है। इसके तहत 2023-24 तक देशभर में सभी जमीन का 11 अंकों यूएलपीआइएन नंबर जारी किया जाना है। इसके जरिये जमीन से संबंधित धोखाधड़ी को रोकना आसान होगा।

यूएलपीआइएन नंबर को लेकर राजस्व विभाग ने राज्य के सभी कलेक्टरों को निर्देश जारी किया है। इसमें कहा गया है कि अभी तक ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि के प्रत्येक भू-खंड को एक विशिष्ट संख्या दिया जाता है, जिसे खसरा नंबर के रूप में जाना जाता है। खसरा पांचसाला में खसरा नंबर से संबंधित भूमि के स्वामित्व इत्यादि का विवरण लिखा जाता है जो कि भुंइया साफ्टवेयर में भी दिखता है।

ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक खसरा नंबर को जियोरिफ्रेस के बाद यूएलपीआइएन नंबर दिया जाना है, जिससे प्रत्येक भूखंड की वास्तविक स्थिति पूर्ण वितरण के साथ आसानी से उपलब्ध होगी। अफसरों का कहना है इस नंबर की सहायता से भूमि संबंधी महत्वपूर्ण विभागीय कार्यों का निष्पादन पारदर्शिता के साथ सरलतापूर्वक किया जा सकेगा। अफसरों के अनुसार इसके जरिये जमीन की धोखाधड़ी से संबंधित अपराधों को भी रोकने में मदद मिल सकती है।

अक्षांश और देशांतर पर आधारित होगा नंबर

अफसरों के अनुसार, यूएलपीआइएन नंबर जारी करने के लिए हर जमीन का सेटेलाइट सर्वे और फाटोग्राफी होगी। जमीन के हर टुकड़े के अक्षांश और देशांतर के आधार पर उसकी पहचान तय की जाएगी और फिर उसे नंबर जारी किया जाएगा। देश के नागरिकों को जारी किए गए आधार नंबर की तरह हर जमीन का अलग नंबर और पहचान होगी।

बैंक और आधार से भी जोड़ जाएगा

प्रदेश में जमीन के खसरा नंबर के आधार पर उसे भू-स्वामी के आधार नंबर से जोड़ने की प्रक्रिया पहले से चल रही है। शहरी क्षेत्रों में यह काम काफी हद तक हो चुका है। अब यूएलपीआइएन नंबर को भी भू-स्वामी के आधार और बैंक खाते से जोड़ा जाएगा। इससे सरकार की विभिन्न योजनाओं का सीधा लाभ उन्हें मिल सकेगा।

संबंधित पोस्ट

एंटी-चाइना सेंटीमेंट्स की 6 वजहें:जासूसी की वजह से अमेरिका ने चीन का कॉन्सुलेट बंद किया, ब्रिटेन ने 5जी नेटवर्क से चीनी कंपनी ही हटा दी, भारत ने 106 ऐप्स बैन कीं

Khabar 30 din

जिस मंडी टैक्स की मंत्री और भाजपा नेता आलोचना कर रहे, उसे वित्त मंत्रालय ने ज़रूरी बताया था

Khabar 30 din

केंद्र ने कोर्ट से कहा- जजों के लिए राष्ट्रीय स्तर का सुरक्षा बल बनाना व्यवहार्य नहीं होगा

Khabar 30 din

मरवाही-बेलगहना के जंगल में लगी आग:सैंकड़ों पेड़-पौधे जलकर राख, कुछ साल पहले ही कराया गया था पौधरोपण; सूचना के बाद भी नहीं पहुंची वन विभाग की टीम

Khabar 30 din

कल से होंगे 9 अहम बदलाव:खुली मिठाई पर देखें तारीख, बीमा पॉलिसी में अब ज्यादा बीमारियां कवर होंगी; जानिए आपको कितना और कैसे फायदा हाेगा

Khabar 30 din

मरवाही उपचुनाव:सर्वदलीय बैठक में हंगामा, अमित जोगी बोले- कलेक्टर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष की तरह काम कर रहे, उन्हें हटाया जाए

Khabar 30 din