ब्रेकिंग न्यूज़
अन्य कारोबार क्राईम प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़ सोशल मीडिया

फर्जी शॉपिंग वेबसाइट के जरिए पीड़ितों को बनाया निशाना:तीन साल में 10 हजार से ज्यादा लोगों को लगाई 25 करोड़ की चपत, आरोपियों में दो ग्रेजुएट भी

नई दिल्ली

फर्जी शॉपिंग वेबसाइट्स के जरिए ठगी करने वाले एक गैंग में शामिल पांच लोग अरेस्ट किए गए हैं। बीते तीन साल में यह गैंग दस हजार से ज्यादा लोगों को अपना शिकार बना उनसे करीब पच्चीस करोड़ रुपए ऐंठ चुका है। ये लोग ऑनलाइन आर्डर के बाद पेयमेंट लेकर सामान पीड़ित तक नहीं पहुंचाते थे। आरोपियों की पहचान पश्चिम विहार निवासी विजय अरोड़ा (37), निलौठी एक्सटेंशन निवासी मनमीत सिंह (29), बिजवासन निवासी राजकुमार (30), रानी बाग निवासी प्रदीप कुमार और निलौठी एक्सटेंशन निवासी अवतार सिंह (32) के तौर पर हुई।

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल के मुताबिक साइबर को बड़ी संख्या में लोगों के ठगे जाने की शिकायतें मिली थीं, जिसमें बताया गया उन्होंने वेबसाइट देख टेबलेट खरीदने के लिए आर्डर किया था, जिसके बदले एडवांस पेयमेंट के तौर पर उनसे 3,699 रुपए या 3,999 रुपए लिए गए। हालांकि, वह सामान उन्हें डिलीवर नहीं किया गया और ना ही रकम ही वापस मिली।

इन शिकायतों पर पुलिस ने वेबसाइट को जांच के दायरे में ले लिया। उसकी स्कैनिंग करने पर वेबसाइट के खिलाफ ओर शिकायतें सामने आई। शुरुआती जांच में पुलिस ने पाया कि इस वेबसाइट को ठगी के इरादे से ही तैयार किया गया था। ऐसे में पुलिस ने आरोपियों के मोबाइल को सर्विलांस पर लिया। पुलिस ने आरोपी विजय अरोड़ा को पकड़ लिया, जिसके ऑफिस से कुछ सामान भी बरामद किया गया।

आरोपी करीब 30 से ज्यादा फर्जी वेबसाइट चला रहे थे
पुलिस आरोपी से पूछताछ के आधार पर अन्य आरोपियों तक पहुंच गई। इनमें मुख्य आरोपी विजय है, जिसने मेरठ से होटल मैनेजमेंट में स्नातक कर रखी है। एचएम करने के बाद उसने लखनऊ में करीब दस महीने पंच सितारा होटल में काम भी किया। इसके बाद उसने अपनी कंपनी खोल ली, जो कई ऑनलाइन शॉपिंग कंपनियों के लिए कोरियर के तौर पर काम करती थी। यहीं से उसके पास फर्जी शॉपिंग वेबसाइट बना लोगों को ठगने का आइडिया आया।

उसने साठ से ज्यादा फर्जी वेबसाइट बनायी। जिनके जरिए इलेक्ट्रॉनिक सामान जैसे मोबाइल फोन, टेबलेट या कपड़े जींस, टीशर्ट आदि बेचने का ऑफर दिया जाता था। जो कोई भी इन वेबसाइट को देख जाल में फंसता वे पेमेंट हासिल करने के बाद सामान ग्राहक तक नहीं पहुंचाते थे। आरोपियों में प्रदीप उर्फ साहिल ऑनलाइन कैंपेन मैनेजर की भूमिका में था।

वह अभी तक विजय के लिए करीब तीस वेबसाइट बना चुका था। प्रदीप को इस काम के बदले कमीशन के तौर पर पेयमेंट मिलती थी। मसलन, मोबाइल या टेबलेट खरीदने के बदले प्रति पीड़ित ढाई सौ रुपए तय थे। प्रदीप ने कर्नाटक से बीटेक कर रखी है और उसे लेटेस्ट टेक्नालॉजी का अच्छा ज्ञान है। आरोपियों द्वारा तैयार की गई वेबसाइट में bookmytab, the ripped jeans, dailyposhak, naridukan, slimfitcollection, bookamobile आदि शामिल हैं।

संबंधित पोस्ट

एंटीलिया केस में घिरी महाराष्ट्र सरकार:राज ठाकरे पहली बार बोले- पहले आतंकी बम रखते थे, अब पुलिस से रखवाए जा रहे; गृह मंत्री के इस्तीफे की मांग तेज

Khabar 30 din

अम्बिकापुर : यूनिडायवर्सनल मोड में होगा दरिमा एयरपोर्ट का परिचालन : खाद्य मंत्री श्री अमरजीत भगत ने किया एयरपोर्ट का निरीक्षण

Khabar 30 din

भरतपुर में आर्मी के नाम पर ठगी:फेसबुक और ओएलक्स पर खुद को अफसर बता फ्रॉड करते थे बदमाश, 7 गिरफ्तार; 22 मोबाइल और 29 फर्जी आर्मी गेट पास भी बरामद

Khabar 30 din

कोरोना से 26 साल के डॉक्टर की मौत:पहली पोस्टिंग से ही कोविड वॉर्ड में कर रहे थे ड्यूटी, इलाज के लिए एक करोड़ देने को तैयार थी सरकार

Khabar 30 din

इस ज्वैलर के पास मिला 5 हजार किलो चांदी, साढ़े चार किलो साेना, रेवेन्यू इंटलिजेंस की बड़ी कार्रवाई में हुआ खुलासा

Khabar 30 din

मोदी सरकार की ‘ऐतिहासिक एमएसपी वृद्धि’ कई राज्यों की उत्पादन लागत से भी कम है

Khabar 30 din