ब्रेकिंग न्यूज़
secl-0000000_1634235810
अन्य कारोबार छत्तीसगढ़ बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ मध्यप्रदेश

कोयला सप्लाई के लिए मालगाड़ियों में बढ़ेगी रैक:छत्तीसगढ़ सहित आधा दर्जन राज्यों में SECR करता है सप्लाई, 38 दिन में 100 मिलियन टन भेजा

देश भर में कोयला संकट और इसके चलते बिजली बंद होने की आशंका जोरों पर है। इन सबके बीच जहां SECL उत्पादन बढ़ाने के लिए मशक्कत में लगा है, वहीं रेलवे पर कोयला सप्लाई करने का प्रेशर बढ़ गया है। इसके लिए अब दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे (SECR) जोन मुख्यालय से मालगाड़ी के रैक बढ़ाने की कवायद की जा रही है। केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी के साथ ही कोल इंडिया के चेयरमेन प्रमोद अग्रवाल के कोरबा का दौरा किया था। इसमें भरोसा दिलाया था कि पावर प्रोजेक्ट बंद नहीं होने दिया जाएगा। कोयले की कोई कमी नहीं होगी।

SECL के अफसरों के मुताबिक रोजाना 3 लाख मीट्रिक टन कोयला भेजा जा रहा है। रेलवे के अफसर भी बताते हैं कि प्रतिदिन करीब 100 रैक कोयला परिवहन किया जा रहा है। यही वजह है कि पिछले साल की तुलना में अभी तक 38 दिन में 100 मिलियन टन कोयला ढुलाई कर चुका है। अफसरों ने कहा कि बिजली उत्पादन कंपनियों की डिमांड के अनुसार कोयला परिवहन के लिए अभी तक पर्याप्त संख्या में रैक उपलब्ध कराया गया है। किसी कंपनी का डिमांड पूरा नहीं हुआ है ऐसी स्थिति नहीं आई है। आने वाले समय में SECL व बिजली कंपनियों की डिमांड के अनुसार रैक मुहैया कराई जाएगी।

छत्तीसगढ़ सहित आधा दर्जन राज्यों में होती है सप्लाई
रेलवे के अधिकारियों मुताबिक दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे की ओर से छत्तीसगढ़ की बिजली उत्पादक कंपनियों के साथ ही मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, पंजाब, राजस्थान सहित अन्य राज्यों में बिजली उत्पादन के लिए कोयला सप्लाई किया जाता है। इसमें NTPC, NBPJ सहित कई बड़ी कंपनियों को रेलवे के जरिए कोयले की आपूर्ति की जाती है।

लदान के लिए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने रचा कीर्तिमान
दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सीनियर PRO साकेत रंजन ने बताया कि वर्तमान वित्तीय वर्ष 2021-22 में SECR ने मात्र 188 दिनों में 100 मिलियन टन से भी अधिक माल की ढुलाई का कीर्तिमान बनाया है। यह पिछले वित्तीय वर्ष के समान अवधि की तुलना में 22.29 फीसदी अधिक है। रेलवे ने पिछले साल की तुलना में 100 मिलियन टन ढुलाई को इस वर्ष 34 दिन पहले ही पूरा कर लिया है। उन्होंने कहा कि SRCR देश के तापघरों के साथ ही कल कारखानों, उद्योगों कोयला, लौह अयस्क, सीमेंट, उर्वरक, मैगजीन आदि सामग्री पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

तकनीकी दिक्कत होने पर उत्पादन होता है प्रभावित
इधर, SECL के अफसर बताते हैं कि छत्तीसगढ़ की बिजली उत्पादन इकाइयों में कोयले की कमी की समस्या नहीं होगी। उन्हें जितनी कोयले की जरूरत होती है उतना कोयला सामान्य रूप से उपलब्ध कराया जा सकता है। कोयला खदानों में तकनीकी दिक्कत होने पर ही उत्पादन प्रभावित होता है। बारिश में कोयला खदानों में पानी भरने की वजह से कोयला उत्पादन प्रभावित हुआ है। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही कोयला आपूर्ति के लिए रैक उपलब्ध नहीं होने के कारण समस्या हो सकती है।

संबंधित पोस्ट

इधर बातचीत, उधर धमकी:चीनी मीडिया ने कहा- लद्दाख के पैंगॉन्ग त्सो से जल्द सेना हटाए भारत; अगर जंग हुई तो उनकी आर्मी ज्यादा समय टिक नहीं पाएगी

Khabar 30 din

मकान बनाने के नाम पर ठगे 8.5 लाख:बोला-मैं सिविल कांट्रेक्टर, अच्छा घर बनाऊंगा, पैसा लेकर बहाने बनाने लगा; केस दर्ज

Khabar 30 din

कांग्रेस कमेटी के आवाहन पर धरसींवा विधायक कार्यालय सांकरा में झीरम घाटी में शहीद योगेंद्र शर्मा सहित शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित किया

Khabar 30 Din

राजस्थान के बाद MP पहुंचा बर्ड फ्लू, कोविड 19 के बाद का सबसे बड़ाअलर्ट-

Khabar 30 Din

गुजरात में 3 लोगों की मौत, 16500 कच्चे घरों को नुकसान; तूफान अब कमजोर पड़ा

Khabar 30 din

भाजपाइयों ने सांसद बैज का काफिला रोका तो कांग्रेसी टूट पड़े; दोनों गुटों में झड़प, गाली-गालौज

Khabar 30 din
error: Content is protected !!