ब्रेकिंग न्यूज़
upendra-tiwari
अन्य उत्तरप्रदेश कारोबार प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

योगी सरकार के मंत्री का बड़बोला पन-95 प्रतिशत लोगो को पेट्रोल की जरूरत ही नहीं? क्या एसे लोग मंत्री के काबिल है?

अब्दुल सलाम कादरी-एडीटर इन चीफ

उत्तर प्रदेश के खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी का यह बयान ऐसे वक़्त में आया है जब देश के अधिकतर हिस्सों में पेट्रोल के दाम सौ रुपये प्रति लीटर को पार कर गए हैं. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस बयान पर तंज़ कसते हुए कहा कि ‘अब मंत्रीजी को भी पेट्रोल की ज़रूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि जनता उन्हें पैदल कर देगी.

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के खेल मंत्री उपेंद्र तिवारी का दावा है कि प्रति व्यक्ति आय के हिसाब से पेट्रोल और डीजल के दाम बहुत कम बढ़े हैं और 95 फीसदी लोगों को तेल की आवश्यकता ही नहीं है.

तिवारी ने बीते गुरुवार को जालौन में संवाददाताओं से बातचीत में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों के बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘आज चंद मुट्ठी भर लोग हैं जो चार पहिया वाहन से चल रहे हैं, जिनके लिए पेट्रोल की उपयोगिता है. आज समाज में 95 प्रतिशत लोग हैं, जिनको पेट्रोल की आवश्यकता नहीं है.’

उन्होंने दावा किया कि अगर प्रति व्यक्ति आय से तुलना करेंगे तो अभी पेट्रोल डीजल के दाम बहुत कम बढ़े हैं.

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्री का यह बयान ऐसे वक्त आया है जब देश के अधिकतर हिस्सों में पेट्रोल के दाम 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गए हैं.

तिवारी ने कहा, ‘आज विपक्ष मुद्दाविहीन है. आप 2014 से पहले का आंकड़ा ले लीजिएगा. मोदी जी और योगी जी की सरकार बनने के पहले प्रति व्यक्ति आय क्या थी और आज कितनी है. आज प्रति व्यक्ति आय दोगुनी से भी ज्यादा हो गई है.’

इसे लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तंज कसते हुए कहा कि ‘अब मंत्री जी को भी पेट्रोल की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि जनता उन्हें पैदल कर देगी.’

शुक्रवार को सपा प्रमुख यादव ने एक ट्वीट में कहा, ‘उत्तर प्रदेश के भाजपाई मंत्री जी ने कहा कि महंगे पेट्रोल से आम जनता को फर्क नहीं पड़ता क्योंकि 95 फीसदी जनता को पेट्रोल की जरूरत नहीं है. अब मंत्री जी को भी नहीं पड़ेगी क्योंकि जनता उन्हें पैदल कर देगी. सच्चाई तो यह है कि 95% जनता को भाजपा की ज़रूरत नहीं है.’

उन्होंने कहा कि ‘थार’ में तो डीजल पड़ता है ना?’

यादव ने यह सवाल पूछकर बीते तीन अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा की ओर ध्यान दिलाया जिसमें थार जीप से कुचलने से चार किसानों की मौत हो गई थी.

इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ किसानों की ओर से हत्या और कुचलकर मारने का मामला दर्ज कराया गया था. आशीष को पिछले दिनों पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

संबंधित पोस्ट

सफलता में मुसीबतों का पहाड़ होता है हाथ में ये पर्वत रेखा, मूडी और चिड़चिड़े किस्म के बन जाते हैं ये लोग

Khabar 30 din

उपचुनाव में हार के बाद मंथन:कमलनाथ लेंगे फीडबैक, उम्मीदवारों के साथ चुनाव प्रभारियों को भोपाल बुलाया; जिम्मेदारों पर गिर सकती है गाज

Khabar 30 din

केंद्र जांच एजेंसियों को ‘हथियार’ की तरह कर रहा इस्तेमाल: महबूबा मुफ़्ती

Khabar 30 din

बड़े ब्रांड के नाम पर नकली जूतों का कारोबार:ग्वालियर-दतिया में एटोक्स, MPR और APAR ब्रांड के नाम से नकली जूता बनाने वाली 2 फैक्ट्री पकड़ाई; 5 करोड़ का माल जब्त

Khabar 30 din

31 मई को मानसून का केरल मे दस्तक, दो तूफान गुजरने के दो दिन बाद आएगा मानसून

Khabar 30 din

देश में आरटीआई कार्यकर्ताओं पर बढ़ रहे हमलों के बीच जवाबदेही क़ानूनों की ज़रूरत है

Khabar 30 din
error: Content is protected !!