ब्रेकिंग न्यूज़
coronavirus_1624437259
COVID 19 अन्य देश विदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ स्वास्थ्य

कोरोना का नया वैरिएंट AY-4:इंदौर के 7 मरीजों के सैंपल में पुष्टि; एक्सपर्ट की चेतावनी- पुराने वैरिएंट से ज्यादा तेजी से फैल सकता है

इंदौर

इंदौर में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट का नया स्वरूप AY-4 मिला है। सात मरीजों के सैंपल की जीनोम सीक्वेंसिंग में यह वैरिएंट सामने आया है। हालांकि इस वैरिएंट को लेकर फिलहाल दुनिया भर में रिसर्च चल रही है। ऐसे में इसकी नेचर को लेकर अभी स्थिति स्पष्ट नहीं है। लेकिन कई एक्सपर्ट ने इस वैरिएंट की संक्रामक क्षमता को पुराने वैरिएंट से तेज बताते हुए सावधानी बरतने की सलाह दी है।

इंदौर में सितंबर में 7 लोग कोरोना पीड़ित पाए गए थे। इन सभी के सैंपल 21 सितंबर को जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए थे। जीनोम सीक्वेंसिंग रिपोर्ट दिल्ली की NCDC लैब से रिपोर्ट हाल ही में दी गई है।

महाराष्ट्र में अप्रैल में मिला था यहा वैरिएंट

डेल्टा के इस नए वैरिएंट AY-4 की जानकारी देश में सबसे पहले अप्रैल में महाराष्ट्र में मिली थी। अब इंदौर में इससे संक्रमित मरीज मिले हैं। हालांकि अब इंदौर के सभी मरीज पूरी तरह से स्वस्थ हैं और इन्हें या इनसे किसी को खतरा नहीं है।

इंदौर में इस माह मिली जीनोम सीक्वेंसिंग की रिपोर्ट में जिन लोगों में यह वैरिएंट मिला है, उनमें से 2 न्यू पलासिया, एक दुबे का बगीचा, तीन महू और एक अन्य जगह का रहने वाला है। नोडल अधिकारी डॉ. अमित मालाकार ने बताया कि ये सभी लोग पूरी तरह से सुरक्षित हैं। अभी AY-4 वैरिएंट की ट्रांसमिशन कैपेसिटी कितनी है, इस पर विश्व में अभी रिसर्च चल रही है। इसलिए कुछ भी कहना ठीक नहीं है, लेकिन अभी घबराने जैसी स्थिति नहीं है।

इन्फेक्टिविटी रेट ज्यादा होने से सावधानी की जरूरत
डॉ. रवि डोसी के मुताबिक, AY-4 अधिक संक्रामक वायरस है। इसका इन्फेक्टिविटी (संक्रामकता) रेट ज्यादा होता है। ऐसे में लोगों को ज्यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। लोगों को चाहिए कि भीड़ में न जाएं और मास्क पहने रखें। अभी सोशल डिस्टेंसिंग नहीं रख रहे लोगों को इसका ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि त्योहार नजदीक है। बहुत जरूरी है, तो ही बाहर जाएं। प्राथमिक तौर पर जिन लोगों में यह वैरिएंट पाया जा रहा है, उन्हें कोविड सेंटर में क्वारंटाइन कराना चाहिए।

क्या वैक्सीन लगने के बाद भी चपेट में आ सकते हैं?
डॉ. डोसी के मुताबिक, किसी भी नए वैरिएंट की जानकारी उसके चलन में आने के एक महीने बाद मिलती है। अभी कुछ भी कहना, बहुत जल्दबाजी होगी। वैसे वैक्सीन के बाद भी इन्फेक्शन हो सकता है। डेल्टा वैरिएंट में भी यह देखा गया था। वैक्सीन लगने के बाद भी ऐसे कई केस सामने आ रहे हैं, लेकिन वायरस के असर की तीव्रता नहीं होती है। पहले नए वैरिएंट को पूरी तरह समझना होगा, फिर उसका प्रोटोकॉल तय करना होगा।

अभी इसे ICMR द्वारा टाइप-ए का वैरिएंट नहीं बताया गया, इसलिए अभी कुछ आकलन नहीं कर सकते और कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। फिर भी पूरी तरह से एहतियात बरतनी होगी और जिन लोगों में भी यह वैरिएंट पाया जाता है, उन्हें हर हाल में आइसोलेट करना होगा। जहां तक इस नए वैरिएंट के कहां से आने का सवाल है तो इसका जवाब देना मुश्किल है। नए वैरिएंट वहां से आते हैं, जहां सैंपलिंग ज्यादा होती है। अभी दिल्ली, महाराष्ट्र और केरल में ज्यादा सैंपलिंग हो रही है। ऐसे में हो सकता है, यह वहां से आया हो। फिर भी लोगों को चाहिए कि इसे सहजता से न लें और पूरी तरह सावधानी बरतें। इन दिनों लोग काफी लापरवाही बरत रहे हैं। कई लोगों ने दूसरा डोज नहीं लगवाया है। ऐसे में वैक्सीन लगवाने के साथ ही कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना बहुत जरूरी है।

घबराए नहीं… जागरूक रहे
डॉ. वीपी पांडे (एओडी, मेडिसिन, एमवायएच) के मुताबिक, किसी भी नए वैरिएंट की संक्रामकता कितनी है, यह तो कुछ समय बाद भी पता चलेगा। वैसे भी हर वायरस के नए-नए वैरिएंट आना एक प्रक्रिया है, क्योंकि समय-समय के साथ इसका नेचर बदलता है। लोगों को चाहिए कि वे जागरूक रहें, घबराएं नहीं।

संबंधित पोस्ट

कोरबा मेडिकल कॉलेज में 3 डॉक्टर, 4 लैब टेक्नीशियन सहित 11 पॉजिटिव; जांगजीर जिला अस्पताल अधीक्षक और पैथोलॉजिस्ट संक्रमित

Khabar 30 din

कुदरत का कहर:नेपाल के मस्तांग जिले के रिहाइशी इलाके में एवलांच, 7 छात्रों समेत 11 घायल

Khabar 30 din

जबलपुर में बनेगा ब्लैक फंगस का इंजेक्शन:उमरिया-डुंगरिया स्थित रेवा क्योर लाइफ साइंसेज कंपनी को मिला लाइसेंस, इंजेक्शन व पाउडर दोनों तरह का उत्पादन

Khabar 30 din

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मोदी का सेक्युलर पाठ:प्रधानमंत्री बोले- हम किस मजहब में पले, इससे बड़ी बात यह कि हमारी आकांक्षाएं देश से कैसे जुड़ें

Khabar 30 din

बजट निराशाजनक, महामारी में बच्चों को अधिक वित्तीय संसाधनों की ज़रूरत: बाल अधिकार संगठन

Khabar 30 din

लिपिक हुआ अफसरशाही का शिकार, प्रभारी तहसीलदार पर मामला दर्ज हो- रमेश तिवारी

Khabar 30 Din
error: Content is protected !!