ब्रेकिंग न्यूज़
orig621600645170_1618590426
कारोबार क्राईम प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़ भ्रष्टाचार मध्यप्रदेश

मप्र में बड़ी कार्रवाई: आइएफएस सहित 19 पर एफआइआर, लकड़ी घोटाले में नामजद- कार्यवाही होगी या मामला फाइलों में दब जाएगा, पढ़े पूरी खबर

अब्दुल सलाम कादरी-एडिटर इन चीफ

म0प्र0

जबलपुर। मंडला जिले में इमारती काष्ठ (सागौन) की नीलामी में घोटाले पर राज्य आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) ने सितम्बर 2021 में बड़ी कार्रवाई की थी। नीलामी के दौरान बिड सीट में हेराफेरी करके लकड़ी कारोबारियों को लाभ पहुंचाने के आरोप में भारतीय वन सेवा (आइएफएस) अधिकारी शैलेंद्र गुप्ता सहित 19 के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किया गया था। ये घोटाला आइएफएस गुप्ता के मंडला जिले में वनमंडलाधिकारी (उत्पादन) की पदस्थापना के दौरान कालपी डिपो में हुआ था। प्रारम्भिक जांच में काष्ठ नीलामी की प्रक्रिया में 13 लाख 80 हजार एक सौ रुपए की अनियमितता पकड़ी गई । वन विभाग के प्रतिवेदन पर ईओडब्ल्यू ने सभी 19 आरोपियों के विरुद्ध धोखाधड़ी, दस्तावेजों में हेरफेर, साजिश करते हुए भ्रष्टाचार कर सरकारी राजस्व को नुकसान पहुंचने का प्रकरण दर्ज किया है।

ईओडब्ल्यू की कार्रवाई: मंडला जिले के कालपी डिपो का मामला

विभागीय जांच में दोषी, छह महीने से निलम्बित
कालपी काष्ठागार में नीलामी में भ्रष्टाचार की शिकायत पर मुख्य वन संरक्षक, भोपाल के निर्देश पर 23 जनवरी, 2021 को विभागीय जांच समिति का गठन हुआ था। समिति ने जांच में आइएफएस को गम्भीर वित्तीय अनियमितता के लिए प्रारम्भिक रूप से जिम्मेदार माना था। इसके बाद आइएफएस को 6 फरवरी, 2021 को निलम्बित कर भोपाल में प्रधान मुख्य वन संरक्षक कार्यालय में अटैच किया था। विभागीय जांच समिति ने पाया था कि आइएफएस अधिकारी गुप्ता के कार्यकाल में कुल 43 नीलामी प्रक्रिया हुई थी। इसमें से 30 नीलामी में गुप्ता ने जानबूझकर बिड शीट और ईएमडी पंजीयन में ओवरराइटिंग कर नीलामी में प्राप्त वास्तविक राशि से कम मूल्य अंकित किया। दस्तावेजों में हेराफेरी करके राजस्व की क्षति पहुंचाई।

इन आरोपियों के विरुद्ध प्रकरण दर्ज
वन विभाग के जिम्मेदार अधिकारी
डॉ. शैलेंद्र कुमार गुप्ता, मंडला में तत्कालीन वन मंडल अधिकारी (उत्पादन)
इंद्रभान गुप्ता, ईएमडी अधिकारी (कालपी एवं रसइयादोना काष्ठागार)
रंगी लाल परते, ईएमडी अधिकारी (गाड़ासरई एवं करंजिया काष्ठागार)

मप्र, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र के कारोबारी जो संलिप्त पाए गए थे।
कृष्ण कुमार गुप्ता, सागर,
ऋषि टिम्बर, जबलपुर,
राजस्थान टिम्बर, गोंदिया,
नवीन कुमार गुप्ता, सागर,
मनमोहन शॉ मिल, सागर,
एनसी शाह, गोंदिया,
संतोष टिम्बर अम्बिकापुर,
मां नर्मदा ट्रेडर्स, डिंडोरी
परमार कंस्ट्रक्शन, डिंडोरी
शहजादा टिम्बर ट्रेडर्स, जसपुर
रामवली फर्नीचर मार्ट, सतना
तौशीफ हसन, जसपुर
गोयल टिम्बर स्टोर्स, सतना
इलाही टिम्बर, जसपुर
रियाजुद्दीन टिम्बर, जसपुर
ईरम एंड कंपनी, जसपुर।

इस मामले में कार्यवाही कब तक होगी ईओडब्ल्यू का कोई जिम्मेदार अधिकारी कुछ भी कहने को तैयार नही?

संबंधित पोस्ट

नासा के टेलीस्कोप ने कम्प्यूटर में गड़बड़ी के बाद यूनिवर्स की फोटो लेना बंद किया; 30 साल से अतंरिक्ष में कर रहा निगरानी

Khabar 30 din

अमेरिका से भारत पहुंची कोविड राहत आपूर्ति की पहली खेप

Khabar 30 Din

महाराष्ट्र में 2 करोड़ बैंक डकैती के सागर से जुड़े:डकैती में उपयोग कार का सागर में कलर बदलवा रहा था मास्टरमाइंड; जीजा की मदद से गिरफ्तार

Khabar 30 din

भारत के बाद चीन की ताइवान में घुसपैठ:चीन के 18 फाइटर जेट्स ने ताइवान की सीमा में उड़ान भरी, जिनपिंग सरकार ने कहा- अमेरिका और ताइवान आग से न खेलें

Khabar 30 din

शादी शुदा युवक के लिए पेड़ पर चढ़ी युवती, फांसी लगाने की देने लगी धमकी; पुलिस ने आश्वासन दिया तो 5 घंटे बाद उतरी नीचे

Khabar 30 din

पराली जलाने पर पंजाब व हरियाणा सरकार के खिलाफ हो सख्त कार्रवाई: आतिशी

Khabar 30 din
error: Content is protected !!