ब्रेकिंग न्यूज़
bhopal-Kamla-Nehru-Hospital
क्राईम भोपाल मध्यप्रदेश लोकल ख़बरें

मध्य प्रदेश: भोपाल के सरकारी बाल चिकित्सालय में आग लगने से चार बच्चों की मौत

मध्य प्रदेश के भोपाल स्थित कमला नेहरू बाल चिकित्सालय (हमीदिया अस्पताल परिसर) की विशेष नवजात शिशु इकाई में सोमवार रात आग लग गई थी. यहां कुल 40 बच्चों को भर्ती किया गया था. इनमें से 36 बच्चों को अलग-अलग वार्डों में रखा गया है. प्रदेश सरकार ने घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं.

भोपाल: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित कमला नेहरू बाल चिकित्सालय (हमीदिया अस्पताल परिसर) की विशेष नवजात शिशु इकाई (एसएनसीयू) में सोमवार रात आग लगने से कम से कम चार बच्चों की मौत हो गई. प्रदेश सरकार ने घटना की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं.

प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि हो सकता है कि आग शॉर्ट-सर्किट के कारण लगी हो. उन्होंने वार्ड के अंदर की स्थिति को बेहद डरावनी बताया.

एक अधिकारी ने कहा कि आग अस्पताल की तीसरी मंजिल पर लगी, जहां पर आईसीयू है.

सारंग ने कहा, ‘एसएनसीयू वार्ड में लगी आग में चार बच्चों की मौत हो गई. घटना की सूचना मिलते ही हम अन्य लोगों के साथ मौके पर पहुंचे. वार्ड के अंदर अंधेरा था. हमने बच्चों को बगल के वार्ड में स्थानांतरित कर दिया.’

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मृतक बच्चों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है.

फतेहगढ़ दमकल केंद्र के प्रभारी जुबेर खान ने बताया कि सोमवार रात करीब नौ बजे अस्पताल की इमारत की तीसरी मंजिल पर आग लगी और आग बुझाने के लिए दमकल की करीब 10 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं.

उन्होंने शॉर्ट-सर्किट से आग लगने का अंदेशा जताया. एसएनसीयू में कुल 40 बच्चों को भर्ती किया गया था. इनमें से 36 बच्चों को अलग-अलग वार्डों में रखा गया है.

चौहान ने एक ट्वीट में कहा कि बचाव अभियान तेजी से चलाया गया और आग पर काबू पा लिया गया है.

उन्होंने कहा कि अस्पताल के बाल वार्ड में आग की घटना दुखद है. घटना की उच्चस्तरीय जांच के निर्देश दिए गए हैं. जांच अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा) मोहम्मद सुलेमान द्वारा की जाएगी.

अस्पताल में आग लगने के बाद वार्ड में भर्ती बच्चों के परिवार के लोग अपने बच्चों की तलाश में इधर-उधर भागते नजर आए.

कुछ नाराज परिजन ने आरोप लगाया कि बच्चों को बचाने के बजाय अस्पताल के कर्मचारी घटना के समय वहां से भाग गए थे.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि एक माता-पिता अपने बच्चे की तलाश कर रहे थे, जबकि कुछ अन्य अपने बच्चों के साथ अस्पताल से बाहर निकल आए.

अस्पताल भोपाल के सरकारी हमीदिया अस्पताल का हिस्सा है जो कि प्रदेश के सबसे बड़े चिकित्सा केंद्रों में से एक है.

पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता कमलनाथ ने घटना को बेहद दर्दनाक बताते हुए सरकार से इसकी उच्चस्तरीय जांच कराने और इसके लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की.

मध्य प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने भी इस घटना पर दुख व्यक्त किया. उन्होंने आग की घटना की घायल हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना भी की.

BBC LIVE के मुताबिक, हमीदिया अस्पताल के कैंपस में इससे पहले भी 7 अक्टूबर आग लगने की घटना सामने आई थी. यह घटना ठेकेदार के स्टोर रूम में हुई थी. इस घटना में कोई भी हताहत नहीं हुआ था.

संबंधित पोस्ट

रायपुर में दो गुटों के बीच चले पत्थर और चाकू, 6 घायल; नशीली गोलियों के लिए दुकान से सिरप खरीदने पहुंचे थे

Khabar 30 din

नर्मदा में फेंके नकली रेमडेसिविर:जबलपुर में 3 दवा की दुकान सील, सप्लॉयर ने कहा- सिटी अस्पताल के संचालक ने दिए थे गुजरात के फर्म के नंबर; नाम आते ही बीमार पड़ा

Khabar 30 din

यूपी पंचायत चुनाव: ‘सरकार और राज्य चुनाव आयोग मेरी पत्नी और बच्चों की मौत के ज़िम्मेदार हैं’

Khabar 30 din

काम की बात:लॉकडाउन में अस्पताल में भर्ती परिजनों तक सुविधा पहुंचाने में हो रही थी दिक्कत; प्रशासन ने लगाया ऑटो रिक्शा, नंबर भी जारी किया

Khabar 30 Din

MP में पहली बार एक्टिव केस 1 लाख के पार:इलाज कराने वाले कोरोना मरीजों की संख्या 7 दिन में 15,297 बढ़ी, इसमें इंदौर अव्वल

Khabar 30 din

भाजपा नेता ने ‘कश्मीरी मुस्लिमों की खाल उधेड़ने’ को कहा, मामला दर्ज

Khabar 30 din
error: Content is protected !!