ब्रेकिंग न्यूज़
malik_1636514887
ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

ड्रग्स केस में ‘बम वॉर’:नवाब मलिक का फडणवीस पर आरोप- उनकी सरकार में जाली नोट का रैकेट चला, इसके तार दाऊद से जुड़े

मुंबई
  • नवाब मलिक ने कल मीडिया से कहा था कि वे बुधवार को फडणवीस के राज उजागर करेंगे। इससे पहले फडणवीस ने मलिक पर अंडरवर्ल्ड कनेक्शन का आरोप लगाया था।

मुंबई में क्रूज ड्रग केस को लेकर समीर वानखेड़े पर लगातार हमला कर रहे नवाब मलिक ने बुधवार को फिर प्रेस कॉन्फ्रेंस की। आज उनके निशाने पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस थे। मलिक ने कहा कि हम जिस अधिकारी के खिलाफ आरोप लगा रहे हैं उससे बचाने का प्रयास हो रहा है क्योंकि देवेंद्र जी के उस अधिकारी से पुराने संबंध हैं। 2008 में कोई अधिकारी नौकरी पर आता है और 14 साल से मुंबई शहर छोड़ता नहीं इसके पीछे क्या राज है?

मलिक ने कहा, ‘8 नवंबर 2016 को जब नोट बंदी हुई तो मोदी जी ने कहा था कि बड़े पैमाने पर जाली नोट खत्म करने के लिए हम नोटबंदी का काम कर रहे हैं। नोटबंदी हुई तो हर देश के हर हिस्से में जाली नोट पकड़े जाने लगे। लेकिन महाराष्ट्र में एक भी जाली नोट का मामला सामने नहीं आया। देवेंद्र जी के प्रोटेक्शन में महाराष्ट्र में जाली नोटों का खेल चल रहा था। 8 अक्टूबर 2017 को BKC में डायरेक्टर इंटेलिजेंस रिवेन्यू ने एक छापेमारी की, जिसमें ₹14 करोड़ के जाली नोट पकड़े गए।’

जाली नोट का कनेक्शन ISI और पाकिस्तान-बांग्लादेश से था। मुंबई से इमरान आलम शेख और पुणे से रियाज शेख के अलावा नवी मुंबई में भी एक गिरफ्तारी हुई थी। लेकिन 14 करोड़ 56 लाख की जब्ती को 8 करोड़ 80 लाख रुपए बताकर मामला दबा दिया गया।

जाली नोट चलाने वालों को जमानत दे दी गई
पाकिस्तान के जाली नोट भारत में चलें, मामला दर्ज हो, तब भी उसमें कुछ दिनों में जमानत हो जाती है। मामला NIA को नहीं दिया जाता। नोट कहां से आ रहे थे, उसकी अंतिम जांच कभी आगे नहीं बढ़ती। जो लोग जाली नोट का रैकेट चला रहे थे, उन्हें तत्कालीन सरकार का संरक्षण था।

अंडरवर्ल्ड से जुड़े लोगों को सरकारी कमीशन में बैठाया
जाली नोट चलाने के आरोपी इमरान आलम शेख को 6 महीने बाद माइनॉरिटी कमीशन का चेयरमैन बनाया गया। देवेंद्र जी आप मुन्ना यादव को चेयरमैन बनाते हैं। यह कुख्यात गुंडा है, जो बांग्लादेशियों को इस देश में आबाद करता है। वह किसी भी पार्टी में रहे, काम आपके लिए करता है। आपने राजनीति का क्रिमिनलाइजेशन किया।’

मलिक ने कहा कि देवेंद्र जी औरों को कह रहे हैं कि अंडरवर्ल्ड कनेक्शन के लोग हैं यह देवेंद्र जी हम आप से पूछना चाहते हैं कि सारे अंडरवर्ल्ड के लोग जो अंडरवर्ल्ड कनेक्टेड लोग हैं जो बड़े-बड़े क्रिमिनल हैं आपने मुख्यमंत्री रहते हुए उन सभी लोगों को सरकारी बोर्ड और सरकारी कमीशन का अध्यक्ष क्यों बनाया?

फडणवीस ने गुंडे को कंस्ट्रक्शन बोर्ड का अध्यक्ष बनाया
नागपुर के कुख्यात गुंडा जिस पर हत्या से लेकर सभी तरह के मामले दर्ज है जो आपका राजनीतिक सारे भय पैदा करने वाला आपका साथ ही है उस यादव को अपने कंस्ट्रक्शन बोर्ड का अध्यक्ष बनाया था कि नहीं? क्या आप की गंगा में मुन्ना यादव नहाकर पवित्र हो गया था?’

नवाब ने फडणवीस से पूछा, ‘आपने हैदर आजम नाम के एक आदमी को मौलाना आजाद ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया था कि नहीं? क्या वह बांग्लादेश के लोगों को मुंबई में बसाने का काम नहीं करता है? क्या हैदर आजम की दूसरी पत्नी बांग्लादेश ही नहीं है? आपने उसके बर्थ सर्टिफिकेट को सही साबित करने का प्रयास किया। क्या उसके इशारे पर महाराष्ट्र में भाई का काम हो रहा था कि नहीं?’

मामला बिल्डरों के झगड़ा हो उसमें वसूल की जाती थी कि नहीं? जमीन मालिकों को पकड़कर लाते थे और सारी जमीन अपने नाम पर लिखा जी ली जाती थी यह सच है कि नहीं? आप के कार्यकाल में विदेशों से फोन आते थे कुख्यात गुंडे फोन करते थे और पुलिस वाले मामला सेटल कर लेते थे।’

3.5 करोड़ की जमीन 20 लाख में खरीदने का आरोप
इससे पहले फडणवीस ने मंगलवार को कुछ पेपर्स दिखाए हुए पूर्व CM ने दावा किया कि 16 साल पहले मलिक ने LBS रोड पर दाऊद के दो गुर्गों से 3.5 करोड़ की जमीन का सौदा सिर्फ 20 लाख रुपए में किया था। इन दोनों गुर्गों को सीरियल ब्लास्ट केस में सजा सुनाई गई थी।

फडणवीस ने कहा, ‘कुर्ला में तीन एकड़ जमीं की एक रजिस्ट्री सोलिडस कंपनी के नाम पर हुई, जो कि मलिक के परिवार की है। यह जमीन 1993 बम ब्लास्ट केस में उम्र कैद की सजा पाए सरदार वाली खान और दाऊद इब्राहिम की बहन हसीना पारकर के करीबी सलीम पटेल से खरीदी गई। रजिस्ट्री पर मलिक के बेटे फराज मलिक ने हस्ताक्षर किए हैं।

फडणवीस के आरोपों के जवाब में मलिक ने कहा कि सलीम पटेल का देहांत हो गया है और वह मुनीरा पटेल का पावर ऑफ अटार्नी था। हमने कागज को सुधारने के लिए उनको कुछ पैसे दिए थे इसकी सच्चाई है। 5 महीने पहले सलीम पटेल का देहांत हो गया था।

क्या टाडा के आरोपियों की संपत्ति बचाने के लिए खरीदी उनकी जमीन
फडणवीस ने कहा, ‘ऐसी कुल 5 प्रॉपर्टीज हैं। इनमें से 4 तो 100 फीसद अंडरवर्ल्ड के रोल वाले लोगों की हैं।’ फडणवीस ने पूछा, ‘मलिक बताएं कि सौदे के वक्त 2005 में जब वह मंत्री थे, तो सौदा कैसे हुआ? मुंबई के गुनहगारों से जमीन क्यों खरीदी, जबकि इन दोषियों पर उस वक्त टाडा लगा था? कानून के मुताबिक टाडा के दोषी की संपत्ति सरकार जब्त करती है। क्या टाडा के आरोपी की जमीन जब्त न हो, इसलिए यह आपको ट्रांसफर की गई?’

मलिक ने कहा- आरोप निराधार, वे पहले सिर्फ किराएदार थे वहां
फडणवीस ने कहा कि वह इन दस्तावेजों को जांच एजेंसियों को उपलब्ध कराएंगे और इसकी एक प्रति एनसीपी प्रमुख शरद पवार को भी भेजेंगे। फडणवीस के आरोपों को निराधार बताते हुए नवाब मलिक ने कहा,’ जिस जमीन का जिक्र हो रहा है, वहां उनका परिवार पहले से किराएदार था। बाद में उसका मालिकाना हक लिया गया। जमीन की मूल मालकिन मुनीरा पटेल है। उसने अपनी जमीन की पावर ऑफ अटॉर्नी सलीम पटेल को दी थी।’

संबंधित पोस्ट

कोरोना से जंग:कोरोना वैक्सीन के साइड इफेक्ट से बचाने बनेगी रैपिड रिस्पांस टीम

Khabar 30 din

iPhone 13 के डुप्लीकेट ने मचाया धमाल! कीमत सिर्फ 6 हजार रुपये

Khabar 30 din

फोन-पे किया तो दूसरे के खाते में गए एक लाख:बैंक में की शिकायत तो भी नहीं लौटा पैसा; उपभोक्ता फोरम ने बैंक से कहा-ब्याज के साथ दीजिए

Khabar 30 din

कोरोना का खतरा बढ़ा:छत्तीसगढ़ में शनिवार को 359 लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई: रायपुर में सबसे ज्यादा 44 संक्रमित मिले, शुक्रवार को सिर्फ 22 मरीज मिले थे

Khabar 30 din

जापान ने विदेशियों की एंट्री बैन की, कनाडा-फ्रांस में ओमिक्रॉन केस मिले; ब्रिटेन में लगेगा वैक्सीन का बूस्टर डोज

Khabar 30 din

सिंघू, टिकरी और ग़ाज़ीपुर सीमाएं भारतीय जनतंत्र की यात्रा के मील के पत्थर हैं

Khabar 30 din
error: Content is protected !!