ब्रेकिंग न्यूज़
rpr-011_1636549659
छत्तीसगढ़ प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़

CG के सबसे बड़े छठ घाट में आस्था का अर्घ्य:बिलासपुर में अरपा किनारे उमड़े जनसैलाब ने डूबते सूर्य की आराधना की

बिलासपुर
  • बिलासपुर के अरपा स्थित छठ घाट में करीब 25 हजार से ज्यादा लोग पहुंचे।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में छठ महापर्व पर आस्था का जनसैलाब उमड़ पड़ा। कोरोना काल के बाद पहली बार हो रहे इस आयोजन के चलते लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। भगवान सूर्य की पूजा करने बड़ी संख्या में यहां लोग अरपा नदी स्थित छठ घाट में पहुंचे। करीब 25 हजार से ज्यादा लोग छठ घाट पर पहुंचे। जिनके बीच व्रतियों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। ऐसा माना जाता है कि आज के दिन भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया से सभी मनोकामना पूरी होती है।

बुधवार को गाजे-बाजे के साथ लोग दौरा,गन्ना लेकर छठ घाट पहुंचे। यहां पहले लोगों ने घाट पर स्थित दौरा का पूजा किया। फिर व्रत करने वाल लोग एक-एक कर घाट के अंदर पानी में गए और कमर तक पानी के बीच डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया। इस दौरान जिन महिलाओं की मन्नत पूरा हो चुकी है, वह अपने घर से जमीन पर लोटते हुए छठ घाट पहुंची। मान्यता है कि नई सुहागिनें भी पुत्र रत्न की प्राप्ति के लिए छठ का व्रत रखती हैं। छठ पूजा करने लोग नंगे पैर छठ घाट पहुंचे थे।

घाट पर पूजा करने लोग दोपहर से ही पहुंचने लगे थे।
घाट पर पूजा करने लोग दोपहर से ही पहुंचने लगे थे।

छठ पर्व यूं तो बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में मनाया जाता है। मगर अब लोग इसे पर्व को बिलासपुर और छत्तीसगढ़ के अलग-अलग इलाकों में भी मनाते हैं। बताया जाता है कि बिलासपुर का अरपा नदी स्थित छठ घाट छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा छठ घाट है। दावा यह भी किया जाता है कि यह स्थाई छठ घाट देश का सबसे बड़ा छठ घाटा है। जिसकी चर्चा पूरे देशभर में होती है।

मन्नत पूरी होनी पर महिला घर से जमीन पर लोटते हुए छठ घाट पहुंची।
मन्नत पूरी होनी पर महिला घर से जमीन पर लोटते हुए छठ घाट पहुंची।

कोरोना के बाद पहली बार हो रहे इस आयोजन को लेकर प्रशासन ने भी खासा तैयारी की है। घाट में जगर-जगह सुरक्षा के व्यापक इंत्जाम किए गए हैं। प्रशासन ने छठ पर्व के पहले ही गाइडलाइन भी जारी कर दी थी। जिसके मुताबिक घाट पर पूजा करने वाले लोग ही मौजूद रहेंगे। इसके अलावा भी कुछ जरूरी गाइडलाइन जारी की गई है। वहीं अरपा में इस बार पाटली पुत्र संस्कृति विकास मंच इस बार छठ पर्व आयोजन करा रही है। जिसकी देखराख में यह आयोजन किया जा रहा है।

घाट पर पहुंचने पर महिलाओं ने दौरा का पूजा किया।
घाट पर पहुंचने पर महिलाओं ने दौरा का पूजा किया।

भगवान सूर्य की उपासना के बाद अब व्रती गुरुवार सुबह उगते सूरज को व्रती अर्घ्य दिया। इसके लिए लोग सुबह 4 बजे से ही घाट में पहुंचेंगे और पानी के अंदर घुसकर भगवान को अर्घ्य दिया जाएगा। इसके बाद प्रसाद वितरण के बाद महापर्व का समापन हो जाएगा।

सोमवार को नहाए खाय के साथ हुई थी शुरुआत

चार दिनी इस उत्सव में सोमवार को नहाय खाय के साथ मंगलवार को खरना किया गया। खरना के साथ व्रती महिलाओं का 36 घंटे का व्रत शुरू हो गया। सूर्य आराधना के इस पर्व में सूर्य देव की पूजा अर्चना कर छठी मईया की भी पूजा की जाती है।

11 को होगा समापन

10 नवंबर को डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया के साथ ही महिलाएं रात में घर में छठी मईया की पूजा करेंगी। पूरी रात जागरण के बाद 11 नवंबर को तड़के 4 बजे सूर्योदय से पूर्व छठ घाट पहुंचेगी। यहां उगते सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। इसके बाद पूजा का समापन होगा और व्रती महिलाएं पारणा करेंगी।

संबंधित पोस्ट

छत्तीसगढ़ः भाजपा नेताओं के सामने हिंदुत्ववादी नेता का अल्पसंख्यकों के सिर काटने का आह्वान

Khabar 30 din

जम्मू कश्मीर: मुहर्रम का जुलूस कवर कर रहे पत्रकारों पर पुलिस का लाठीचार्ज

Khabar 30 din

अगले दो दिनों तक शीत लहर के साथ पड़ने वाली है कड़ाके की ठंड, कई राज्यों में जारी हुआ बारिश और बर्फबारी का अलर्ट

Khabar 30 din

कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक ने कोरोना के प्रति सजग रहने लोगों से की अपील, निकाला फ्लैग मार्च

Khabar 30 Din

साइंटिस्ट डॉ. शाहिद जमील का इस्तीफा:कोरोना से जंग की रणनीति तैयार करने वाले ग्रुप के चीफ थे, सरकार पर सबूतों की अनदेखी करने का आरोप लगाया

Khabar 30 din

डरावने हैं कोरोना के आंकड़े, 24 घंटों में मिले 14313 नए मरीज, 549 लोगों की मौत

Khabar 30 din
error: Content is protected !!