ब्रेकिंग न्यूज़
yamuna-1636533171
प्रदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ मौसम सोशल मीडिया

Yamuna foam cause: यमुना में क्यों और कैसे उठता है झाग? असल कारण जानिए

नई दिल्ली, 10 नवंबर: राजधानी दिल्ली में यमुना नदी की पिछले तीन दिनों से जो तस्वीरें आ रही हैं, उसने दिल्ली की सियासत तो गर्म कर ही दिया है, दुनिया भर में भारत की छवि भी खराब हो रही है। एक तरफ देश ने लगातार तीसरे साल क्लाइमेट परफॉर्मेंस इंडेक्स में टॉप 10 में जगह (चीन 37, अमेरिका 55 पर है और पहले तीन स्थान खाली रखे गए हैं। पहला स्थान डेनमार्क को मिला है) बनाई है और दूसरी तरफ देश की राजधानी के बीच से गुजर रही सदियों से पवित्र मानी जाने वाली यमुना नदी से इतनी भयानक तस्वीरें सामने आ रही हैं। सबसे शर्मनाक स्थिति तो ये है कि खतरनाक केमिकल से भरे इस पानी में भी आस्था के महापर्व छठ पर छठव्रतियों को डुबकी लगानी पड़ रही है। आइए इस समस्या का वैज्ञानिक कारण जानते हैं, जिसके लिए वन इंडिया ने देश के बड़े पर्यावरणविद से एक्सक्लूसिव बातचीत की है।

यमुना में सफेद झाग आने का कारण क्या है ? दिल्ली में छठ पूजा की वजह से यमुना नदी के पानी से सफेद झाग की तस्वीरों ने सरकारों की पोल खोलकर रख दी है। साफ नजर आ रहा है कि यमुना की सफाई के नाम पर हुक्कमरानों ने कैसे सिर्फ गाल बजाकर ही अपना पल्ला झारने की कोशिश की है। एक्सपर्ट का कहना है कि शहर के बिना ट्रीट किए हुए सीवेज समेत उद्योगों से जो जहरीला कचरा नदी में छोड़ा जा रहा है, उसी से यह झाग बन रही है। वन इंडिया ने इस झाग के बारे में देश के बड़े पर्यावरणविद डॉक्टर अनिल जोशी से खास बात की है। उनका कहना है कि “ये केमिकल वेस्ट है, जो फैक्ट्री से आ रहा है….जब गाढ़ा हो जाता है तो झाग बन जाते हैं। इसमें ज्यादा केमिकल होते हैं…यही चीज आपको मथुरा में मिलेगी…यही चीज कानपुर में मिलेगी।” उन्होंने आगे कहा कि “ये कई तरह के जो केमिकल वेस्ट आ रहे हैं, विभिन्न स्रोतों से फैक्ट्री से…….घर का कचरा भी इसमें शामिल है…..साबुन इस्तेमाल होता है घरों में वो भी मिक्स हो जाता है…..दिल्ली में इसलिए ज्यादा होता है, क्योंकि यहां ज्यादा लोग रहते हैं…..।”
यमुना में कैसे बनता है झाग ?

यमुना में कैसे बनता है झाग ? एक्सपर्ट के मुताबिक यमुना नदी के पानी में जो झाग बन रहा है उसके पीछे इंडस्ट्री से केमिकल के रूप में निकला फॉस्फेट है। सेंटर फॉर साइंस एंड एन्वॉयरमेंट में वॉटर प्रोग्राम में सीनियर प्रोग्राम मैनेजर सुष्मिता सेनगुप्ता का कहना है कि सर्फेकेंट्स और फॉस्फेट घरों से डिटरजेंट के रूप में और उद्योगों की लॉन्ड्री से निकलकर नदी के पानी में मिल जाता है, क्योंकि सारा का सारा सीवेज का ट्रीटमेंट तो नहीं होता है। इस मौसम में ज्यादा झाग बनने की वजह ये है कि नदी में पानी का बहाव काफी कम रहता है। इसकी वजह से पॉल्युटेंट पानी में पूरी तरह से घुल नहीं पाता है। दिल्ली जल बोर्ड के एक अधिकारी के मुताबिक ओखला बैराज के पास पानी गिरने से जो हलचल पैदा होती है, उससे फॉस्फेट से झाग बनने लगता है। सेंट्रल पॉल्युशन कंट्रोल बोर्ड ने पिछले साल जो रिपोर्ट दी थी उसके मुताबिक दिल्ली में दो जगह झाग पैदा होते हैं- आईटीओ के पास और ओखला बैराज के नजदीक। ओखला बैराज में जो पानी गिरता है उसकी वजह से गंदे पानी में मिला सर्फेकेंट्स और झाग पैदा करने वाले तत्व इस तरह का शक्ल अख्तियार कर लेता है। यमुना में प्रदूषण के लिए कौन है जिम्मेदार ? पिछले तीन दिनों से यमुना नदी के पानी को लेकर दिल्ली में खूब सियासत हो रही है। विपक्षी पार्टियां खासकर भारतीय जनता पार्टी अरविंद केजरीवाल सरकार पर आरोप लगा रही है।

यमुना में प्रदूषण के लिए कौन है जिम्मेदार ?

वहीं आम आदमी पार्टी सरकार का दावा है कि जहरीले झाग के लिए यूपी और हरियाणा जिम्मेदार हैं। भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने आरोप लगाया है कि “सोनिया विहार में पानी साफ है और कालिन्दी कुंज में जहरीला तो इसका मतलब साफ है कि दिल्ली की आम आदमी सरकार दोषी है।” वहीं दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष और आम आदमी पार्टी नेता राघव चड्ढा का कहना है कि ओखला बैराज यूपी सिंचाई विभाग के नियंत्रण में है और वहां जो फोम बह रहा है वह डिटरजेंट और जहरीले कचरे की वजह से है। उनका दावा है कि ‘हरियाणा और यूपी, नजफगढ़ और शाहदरा के नालों के जरिए यमुना में रोजाना 15.5 करोड़ गैलन बिना शोधित अपशिश्ट पानी छोड़ा जाता है और बैराज की ऊंचाई से पानी गिरने की वजह से यमुना में झाग बनने लग जाता है।’ (ऊपर की तस्वीरें-सोमवार और मंगलवार की) यमुना को स्वच्छ बनाने का सरकारी फंडा ! सोशल मीडिया पर तीन दिनों से छठ पूजा के मौके पर यमुना नदी के प्रदूषण को देखकर जबर्दस्त बवाल मचा हुआ है। आम आदमी पार्टी और उसके सुप्रीमो केजरीवाल के पुराने बयान वायरल हो रहे हैं, जिसमें उन्होंने 2015 में दिल्ली वालों से 5 साल का वक्त मांगा था और कहा था कि वह यमुना को स्वच्छ तो बनाएंगे ही, यमुना किनारे छोटे-छोटे झीलों का भी निर्माण करवाएंगे। उनके एक ऐसे ही वीडियो पर उनके पूर्व सहयोगी और कवि कुमार विश्वास भी खूब तंज कस चुके हैं। इस बीच बुधवार को दिल्ली जल बोर्ड की ओर से छठ पूजा से पहले यमुना में पानी के छिड़काव का एक और वीडियो वायरल हो गया है। इसमें दिल्ली जल बोर्ड (दिल्ली सरकार के अधीन) के कर्मचारी अशोक कुमार कह रहे हैं, “हम यमुना में पानी का छिड़काव कर रहे हैं ताकि झाग को खत्म किया जा सके।” इस वीडियो पर लोग खूब मजे ले रहे हैं। सवाल उठ रहे हैं कि क्या झाग खत्म हो जाने भर से दिल्ली में यमुना का पानी साफ हो जाएगा ?

संबंधित पोस्ट

विश्व खुशहाली रिपोर्ट: 149 देशों की सूची में फिनलैंड शीर्ष पर, भारत को मिला 139वां पायदान

Khabar 30 din

फ्लाइट टू जगदलपुर:हवाई सेवा से जुड़ा बस्तर, पहले दिन 30 यात्रियों को लेकर एक घंटे 10 मिनट देरी से भरी उड़ान

Khabar 30 din

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक कहीं कवरेज की भूख मिटाने का प्रयोजन तो नहीं है-NDTV(रविश कुमार)

Khabar 30 din

बिहार चुनाव से ठीक पहले आरजेडी के लिए अच्छी खबर, लालू यादव को मिली जमानत

Khabar 30 din

नीतीश के मंच पर लालू की बहू:तेजप्रताप की पत्नी ने नीतीश के पैर छुए; लेकिन भीड़ ने लालू जिंदाबाद के नारे लगाए

Khabar 30 Din

टैक्स चोरी:रायपुर के कारोबारी शुभम सिंघल गिरफ्तार, 12 करोड़ के जीएसटी गड़बड़ी का मामला, सिंघल ने दूसरे कारोबारियों के नाम भी बताए

Khabar 30 din
error: Content is protected !!