ब्रेकिंग न्यूज़
_1666164771
क्राईम खबरे जरा हटके देश विदेश बड़ी खबर ब्रेकिंग न्यूज़ सम्पादकीय सोशल मीडिया

नफ़रती भाषण के मामले में एफ़आईआर दर्ज करने के निर्देश के लिए पूर्व अनुमति ज़रूरी: अदालत

नई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने बौद्ध समुदाय के खिलाफ कथित रूप से अपमानजनक टिप्पणियां करने के मामले में एक व्यक्ति के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के अनुरोध वाली याचिका को खारिज कर दिया.

अदालत ने कहा कि उसके निर्देश के लिए सक्षम प्राधिकार से अभियोजन की पूर्व मंजूरी आवश्यक है.

अदालत वकील सत्यप्रकाश गौतम की याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिन्होंने भगवान बुद्ध तथा बौद्ध समुदाय के खिलाफ कथित रूप से अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल करने के लिए स्वामी राम भद्राचार्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का अनुरोध किया था.

मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अजीत नारायण ने शुक्रवार (02 दिसंबर) को पारित आदेश में कहा, ‘फरियादी ने इस मामले में सक्षम प्राधिकार से कोई पूर्व मंजूरी प्राप्त नहीं की है, इसलिए कानून के तय सिद्धांत के अनुसार मंजूरी के अभाव में शिकायत को खारिज किया जाता है.’

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, अदालत ने कहा कि दिल्ली हाईकोर्ट के एक हालिया फैसले के अनुसार, नफरत भरे भाषणों आदि के मामले में दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) के प्रावधान के तहत जांच और एफआईआर दर्ज करने के निर्देश के लिए सरकार की उचित मंजूरी की आवश्यकता होती है.

अदालत ने यह भी कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के अनुसार, मंजूरी प्राप्त करने की आवश्यकता, प्रकृति में निर्देशिका (Directory) होने के बजाय अनिवार्य आवश्यकता थी.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

संबंधित पोस्ट

5 राज्यों में चुनाव तारीखों का ऐलान:7 चरणों में 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव, शुरुआत 10 फरवरी को यूपी से, सभी नतीजे 10 मार्च को

Khabar 30 din

महाराष्ट्र में क्या भाजपा की सरकार बनेगी:अब फडणवीस ने कहा- फिर सरकार बनाएंगे; इस बार शपथ तड़के नहीं, सही समय पर होगी

Khabar 30 din

प्रदेश में हवा का रुख बदला, 9 जनवरी से बरसात और ओला गिरने की संभावना

Khabar 30 din

आप सरकार ने सीरो सर्वे के परिणामों पर खबरों को गलत बताया, अदालत ने कहा-खेल मत खेलिए

Khabar 30 din

बड़ी कार्रवाई:230 करोड़ के फर्जी बिल बनाकर 38 करोड़ रुपए जीएसटी चोरी, दो गिरफ्तार

Khabar 30 Din

तेलंगाना में कालेश्वरम सिंचाई परियोजना को क़ानून का उल्लंघन कर पर्यावरण मंज़ूरी दी गई: एनजीटी

Khabar 30 Din
error: Content is protected !!