June 17, 2024 12:38 am

लेटेस्ट न्यूज़

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि, यह लोग ST, SC, OBC के विरोधी हैं, निकायों के माध्यम से बने जाती प्रमाण पत्र की भी जांच

छत्तीसगढ़ में 5 सालों में बने जाति प्रमाणपत्रों की जांच की जाएगी। फर्जी प्रमाणपत्र बनाए जाने की शिकायत के बाद जांच करने का फैसला लिया गया है। जाति प्रमाणपत्रों की जांच को लेकर डिप्टी सीएम विजय शर्मा ने कहा कि, 5 सालों में नगरीय निकायों में बड़ी संख्या में फर्जी प्रमाणपत्र बनाए गए हैं।

राज्य सरकार ऐसे सभी फर्जी प्रमाणपत्रों की जांच कराएगी। इन सब के बीच भूपेश बघेल ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि, यह लोग ST, SC, OBC के विरोधी हैं।

BJP सरकार जांच के नाम पर कर रही गुमराह- भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ में जाति प्रमाणपत्रों की जांच के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि, BJP सरकार ST, SC, OBC की विरोधी सरकार है। जब से BJP सरकार बनी है, तबसे जाति प्रमाणपत्र बनना ही बंद हो गया है। विजय शर्मा एक भी शिकायत बता दें और जांच किस आधार पर करेंगे यह भी बता दें। BJP सरकार सिर्फ जांच के नाम पर गुमराह करना चाहती है।

छत्तीसगढ़ में जाति प्रमाणपत्रों की जांच के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि, BJP सरकार ST, SC, OBC की विरोधी सरकार है। जब से BJP सरकार बनी है, तबसे जाति प्रमाणपत्र बनना ही बंद हो गया है। विजय शर्मा एक भी शिकायत बता दें और जांच किस आधार पर करेंगे यह भी बता दें। BJP सरकार सिर्फ जांच के नाम पर गुमराह करना चाहती है।

पीड़ितों को नहीं मिला न्याय

झीरम हमले के 11 साल पूरे हो गए, लेकिन पीड़ितों को न्याय नहीं मिला है। इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि, केंद्र में हमारी सरकार बनने जा रही है, NIA सही दिशा में जांच करेगी। BJP सरकार ने हमेशा झीरम की जांच को रोकने का प्रयास किया है। तत्कालीन लोगों की भूमिका थी, इसलिए जांच नहीं होने दी जा रही है। हमने कई बार NIA से झीरम की जांच के लिए फाइल बात करने की कोशिश की है और गृहमंत्री विजय शर्मा के सामने भी मुद्दे को उठाया, लेकिन BJP ने जांच नहीं होने दी।

अपना जिला संभाल लें…इसके बाद बात करें

झीरम को लेकर विजय शर्मा ने कहा था कि, भूपेश बघेल के जेब से सबूत निकालेंगे। इसी पर पलटवार करते हुए भूपेश बघेल ने कहा कि, कैसे किसी के गिरेबान में हाथ डाल सकते हैं। सड़क दुर्घटना हुई तो तीन घंटे गांव के अस्पताल में बिजली नहीं थी। अस्पताल में एक डॉक्टर नहीं था, स्टॉफ तक नहीं था। सबसे ज्यादा घटनाएं तो कवर्धा जिले में घट रही हैं। विजय शर्मा पहले अपना जिला संभाल लें, इसके बाद बात करें।

Khabar 30 Din
Author: Khabar 30 Din

Leave a Comment

Advertisement